रोहिंग्या पर खुफिया विभाग अलर्ट


उन्नाव। पीएम नरेंद्र मोदी ने ब्रिक्स में बर्मा म्यांमार के जिन रोहिंग्या लोगाें का जिक्र किया गया था, उनकी निगरानी खुफिया विभाग ने शुरू कर दी है। रोहिंग्या को मीट कारोबार की धुरी माना जाता है। मीट फैक्ट्रियों में रोहिंग्या लोगों के काम करने के इनपुट भी खुफिया विभाग को मिले थे। ऐसे में खुफिया विभाग अलर्ट है। विभाग लगातार मीट फैक्ट्रियों पर नजरें लगाए है। हालांकि अब तक एक भी रोहिंग्या को खुफिया विभाग ट्रेस नहीं कर पाया है। म्यांमार में बौद्ध धर्म के अनुयायियों व रोहिंग्या मुसलमानों के बीच तनाव चल रहा है। ऐसे में रोहिंग्या पलायन कर रहे हैं। यह देश के विभिन्न हिस्सों में छिपकर रहने को मजबूर हैं। खुफिया विभाग इस मसले पर सतर्क है। खुफिया विभाग के सूत्रों की मानें तो रोहिंग्या लोगों की मीट कटिंग में अच्छी खासी डिमांड है। इन्हें मीट काटने में दक्ष माना जाता है। ऐसे में यह बड़ी संख्या में मीट फैक्ट्रियों में काम कर रहे हैं। अलीगढ़ की एक फैक्ट्री में 250 रोहिंग्या लोगों के काम करने की जानकारी मिली थी। इसके बाद उन्नाव स्थित फैक्ट्रियों की निगरानी शुरू कर दी गई है। खुफिया विभाग के सूत्रों के मुताबिक फिलहाल किसी भी फैक्ट्री में रोहिंग्या लोगों के मौजूद होने की पुष्टि नहीं हुई है। रोहिंग्या लोगों के विषय में सही जानकारी जुटाने का प्रयास किया जा रहा है।
एसपी नेहा पांडेय ने बताया कि म्यांमार में रोहिंग्या मुस्लिमों को लेकर गृहमंत्रालय से अपडेट आया है कि रोहिंग्या समाज के लोगों की मौजूदगी हो तो उन पर नजर रखी जाए।उन्होंने बताया कि कुछ फैक्ट्रियों में काम करने वाले श्रमिक रोहिंग्या समाज के हो सकते हैं, लेकिन अभी तक पुष्टि नहीं हुई है। पुलिस तस्दीक कर रही है। मीट फैक्ट्रियों में रोहिंग्या लोगों की मौजूदगी की सूचना पर खुफिया विभाग कर रहा निगरानी ,एसपी ने बताया कि अलर्ट है पुलिस, अभी तक उन्नाव में होने की नहीं हुई पुष्टि

Please Write Your Comments Below

Previous ‘माफी’ के एवज में लाशों का सच्चा सौदा !
Next आज दिल्ली यूनिवर्सिटी में वोटों की गिनती जारी 1 लाख 30 हजार स्टूडेंट्स ने वोट डाले