पीपली लाइव के सह-निर्देशक महमूद फारूकी हुए बरी…


दिल्‍ली उच्‍च न्‍यायालय ने अमेरिकी रिसर्चर से बलात्‍कार के एक मामले में आरोपी महमूद फारूकी को बरी कर दिया है। फारूकी बॉलीवुड फिल्‍म ‘पीपली लाइव’ के सह-निर्माता रहे हैं। अदालत ने घटना और शिकायत की सत्‍यता पर संदेह उठाते हुए फारूकी को दोषमुक्‍त करार दिया। अगस्‍त, 2016 में फारूकी को इस मामले में दिल्ली की एक अदालत ने सात साल कैद की सजा सुनाई थी। तब अदालत ने माना था कि महमूद फारूकी ने मार्च, 2015 में एक अमेरिकी रिसर्चर से रेप किया था। उन पर आरोप था कि उन्होंने 35 वर्षीय भारतीय मूल की अमेरिकी शोधकर्ता को अपने घर खाने पर बुलाया और नशे की हालत से उससे बलात्कार किया।

न्यूयॉर्क के कोलंबिया विश्वविद्यालय से शोध कर रही एक 35 वर्षीय अमेरिकी रिसर्चर ने दिल्ली के न्यू डिफेंस कालोनी पुलिस थाने में महमूद फारूकी के खिलाफ मार्च, 2015 में बलात्कार करने का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई थी। पीड़िता ने कहा था कि सुखदेव विहार में एक किराए के घर में महमूद ने उसके साथ बलात्कार किया। वह वहां अपने शोधकार्य में आरोपी से मदद लेने गयी थी। आरोपी महमूद ‘पीपली लाइव’ की निर्देशक अनुषा रिजवी के पति हैं। उसकी शोध छात्रा से मुलाकात वाराणसी में हुई थी जहां पर वह बाबा गोरखनाथ पर अपने शोध के संबंध में गई थी। पीड़िता महमूद और उसकी पत्नी को जानती थी।

मामले में मुकदमा पिछले साल (2015) नौ सितंबर को शुरू हुआ था जब पीड़िता महिला अदालत में पेश हुई और अपना बयान दर्ज कराया। अमेरिकी महिला ने बंद कमरे में चली कार्रवाई में आरोप लगाया था कि फारूकी ने 28 मार्च को अपने सुखदेव विहार स्थित आवास पर उसके साथ बलात्कार किया था और बाद में उसे कई ईमेल भेजकर माफी मांगी। फारूकी ने दावा किया था कि उन्हें गलत तरह से फंसाया गया है।

Previous जब ट्रेन के आगे सुसाइड करने पहुंच गई थी शबाना आजमी, जानिए वजह...
Next आमिर खान ने गुजरात में की मां दुर्गा की भव्य आरती, देखिए...