सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने की घोषणा, डिंपल यादव अब नहीं लड़ेंगी चुनाव…


भारतीय राजनीति में परिवारवाद का मुद्दा अक्सर उठता रहा है. खासकर बीजेपी इस मुद्दे को भुनाती रही है. ऐसे में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने घोषणा की है कि अब उनकी पत्नी डिंपल यादव चुनाव नहीं लड़ेंगी. फिलहाल डिंपल यादव उत्तर प्रदेश के कन्नौज लोकसभा सीट से सांसद हैं. रविवार को अखिलेश यादव ने रायपुर में कहा, ‘लोग उनपर परिवारवाद का आरोप लगाते रहे हैं, लेकिन मैं कहता हूं कि सपा में परिवारवाद नहीं है. मैं कहता हूं कि डिंपल यादव अब चुनाव नहीं लड़ेंगी.’ अखिलेश एक सामाजिक कार्यक्रम में हिस्सा लेने आए हुए थे. एयरपोर्ट में पत्रकारों से बातचीत में अखिलेश ने कहा कि राहुल गांधी से दोस्ती अभी है और संबंध कहीं भी किसी तरह से खराब नहीं हुए हैं.

इससे पहले अखिलेश यादव ने कहा, ‘गाय, भैंस और गोबर की राजनीति करने वाले आज डिजिटल इंडिया की बात कर रहे हैं. हमने हमारी सरकार में एक्सप्रेस हाइवे बनवाया. लेकिन मोदी जी केवल बात ही कर रहे हैं, हमें नहीं लगता कि रायपुर में मेट्रो का सपना पूरा कर पाएंगे, क्योंकि उनका फोकस गुजरात पर ज्यादा है.’ इस दौरान अखिलेश यादव ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ पर भी हमला किया. कहा कि वे जिस तरह से सरकार चला रहे हैं, उसे सब देख रहे हैं.

वंशवाद पर राहुल गांधी का समर्थन कर चुके हैं अखिलेश
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव 14 सितंबर के अपने बयान में वंशवाद के मुद्दे पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का बचाव कर चुके हैं. अखिलेश ने कहा था, अमेरिका के दो पूर्व राष्ट्रपतियों समेत ऐसे कई उदाहरण हैं जब एक ही परिवार के लोग किसी क्षेत्र में आगे बढ़े हैं. उन्होंने कहा था, ‘राहुल जी हमारे साथी हैं, हमारे दोस्त हैं, हालांकि उन्होंने उत्तर प्रदेश और देश की राजनीति के परिप्रेक्ष्य में कहा होगा. अगर उनसे अमेरिका की राजनीति के बारे में पूछा जाता तो शायद वह भी बता सकते थे कि अमेरिका में भी एक राष्ट्रपति थे जिनके बेटे राष्ट्रपति बने. एक और राष्ट्रपति थे, उनकी पत्नी भी राष्ट्रपति बनना चाहती थीं.’

उनका इशारा पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपतियों जॉर्ज वाशिंग्टन बुश और उनके बेटे जॉर्ज बुश के साथ-साथ बिल क्लिंटन की पत्नी हिलेरी की तरफ था. हिलेरी ने पिछला चुनाव अमेरिका के मौजूदा राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ लड़ा था.

अखिलेश ने कहा कि दुनिया के लोकतंत्र में तमाम उदाहरण हैं, जहां एक परिवार को कोई व्यक्ति आगे निकला है, तो उसी परिवार का दूसरा भी आया है. मालूम हो कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल ने बर्कले में कैलीफोर्निया विश्वविद्यालय में अपने भाषण में इस बारे में टिप्पणी की थी कि भारत में वंशवाद किस तरह मौजूद हैं.

Previous लखनऊ: एसी कोच के शीशे निकालकर रवाना करनी पड़ी सूरत एक्सप्रेस, जानिए वजह...
Next कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने किया सवा, ‘बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ’ केवल एक नारा ही है क्या...