यूपी: अब NASA की कांफ्रेंस में इंडिया को रिप्रेजेंट करेगा ये शख्स…


लखनऊ: यूपी के बलरामपुर डिस्ट्रिक्ट के आयुष श्रीवास्तव, अमेरिकी अन्तरिक्ष एजेंसी नासा की कांफ्रेंस में अपने देश का प्रतिनिधित्व करने के लिए बैंकाक जाएंगे। ये इंडिया के एकमात्र ऐसे युवा हैं, जिनका सेलेक्शन नासा की तरफ से 12 से 19 जनवरी तक बैंकाक में होने वाली इनसाइड वीक काफ्रेंस में पार्टिसिपेट करने के लिए हुआ है।

IAS बनने का है सपना…
– आयुष ने बताया, ”मेरा जन्म 22 सिंतबर 1998 को बलरामपुर के इटवा मध्यनगर गांव में हुआ था। पिता अवधेश टीचर और मां विद्यावती हाउस वाइफ हैं।

– घर में एक भाई और एक बहन है। मैं सबसे छोटा हूं। बचपन काफी अच्छे से बीता था। पढ़ाई करने के दौरान कभी कोई प्रॉब्लम फेस नहीं करनी पड़ी। घर में हमेशा पढ़ाई का माहौल बना रहा। शुरू से ही मैं क्लास में फर्स्ट आता था।”

– ”मैंने हाईस्कूल की पढ़ाई 2013 में गोंडा के दयानन्द आर्यवैदिक इंटर कॉलेज से किया। यहां मेरे 78 परसेंट मार्क्स आए थे। इंटर की पढ़ाई 2015 में फैजाबाद के महराजा इंटर कॉलेज से पूरी की। इसमें मेरे 64 परसेंट मार्क्स आए थे।”

– ”मैं अभी डॉ. राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी से एग्रीकल्चर साइंस में ग्रेजुएशन के थर्ड ईयर में हूं। मेरे पैरेंट्स मुझें आईएएस ऑफिसर बनाना चाहते हैं। मैं भी आगे चलकर उनके सपने साकार करना चाहता हूं।”

नासा की कांफ्रेंस के लिए ऐसे हुए सेलेक्ट
– आयुष बताते है, ”अगस्त 2015 में नासा की कांफ्रेंस में भाग लेने के लिए इनसाइड समिट पार्टिसिपेशन कांटेस्ट नाम से ऑनलाइन एग्जाम कराया गया था। मैंने भी उस एग्जाम में पार्टिसिपेट किया था। ये परीक्षा 7 से लेकर 25 अगस्त तक 10 राउंड में हुई थी।”

– ”इसका फाइनल इंटरव्यू 31 अगस्त 2015 को हुआ था। उसी दिन शाम को मेल पर रिजल्ट आ गया। इसके बाद मुझे 16 से 22 नंवबर तक वियतनाम की कैपिटल हनोई में आयोजित इंटरनेशनल कांफ्रेंस में भाग लेने के लिए बुलाया गया।”

– ”उस कांफ्रेंस में 190 देशों से 200 पार्टिसिपेंट्स ने भाग लिया था। इंडिया की तरफ से इस कांफ्रेंस में भाग लेने के लिए तब 3 युवा पहुंचे थे। उस कांफ्रेंस के दौरान मुझें यूथ ऑफ द समिट का अवार्ड भी मिला था।”

– आयुष ने दावा किया कि ”उसी बेसिस पर अब 2018 के कांफ्रेंस के लिए दोबारा सेलेक्शन हुआ है, लेकिन इस बार इंडिया की तरफ से केवल मुझें उस कांफ्रेंस में पार्टिसिपेट करने के लिए बुलाया गया है।”

मंगल ग्रह पर होगी डिबेट
– आयुष ने कहा, ”इस कांफ्रेंस में मंगल ग्रह पर जो भी रिसर्च होते हैं, उनका कैसे ज्यादा से ज्यादा मानवता के कल्याण के लिए उपयोग किया जा सकता है। कैसे इन रिसर्च को और अच्छा बनाया जा सकता है। ऐसे कई टॉपिक्स पर डिबेट होगी।”

Please Write Your Comments Below

Previous लखनऊ: नो पार्किंग में खड़ी कार को उठाने पर महिला ने दी गालियां, जानिए पूरा मामला...
Next 1991 से राम मंदिर और गंगा के शुद्धिकरण के लिए तप कर रहे हैं मौनी बाबा...

Suggested Posts