भारत-नेपाल संबंधों को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने नया आयाम दिया: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ


#AyodyaJanakPurBusService

लखनऊ: 12 मई, 2018

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने जनकपुर से अयोध्या सीधी बस सेवा के यात्रियों का आज अयोध्या में पुष्प, अंगवस्त्र व नेपाली भाषा मंे अनूदित रामचरित मानस भेंट कर स्वागत किया। ज्ञातव्य है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी व नेपाल के प्रधानमंत्री श्री के0पी0 शर्मा ओली ने शुक्रवार 11 मई, 2018 को नेपाल के जनकपुर से इस ऐतिहासिक बस सेवा का शुभारंभ किया था। 66 यात्रियों को लेकर यह बस आज सुबह लगभग 9 बजे अयोध्या के रामकथा पार्क पहुंची, जहां यात्रियों का भव्य स्वागत किया गया। इस अवसर पर पर्यटन मंत्री श्रीमती रीता बहुगुणा जोशी भी मौजूद थीं।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने अयोध्या-जनकपुर सीधी बस सेवा शुरू करने के लिए नेपाल और भारत के प्रधामंत्रियों का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने भारत-नेपाल संबंधों को नया आयाम दिया है। इस बस सेवा के शुरू होने से भारत और नेपाल के बीच नए सांस्कृतिक संबंधों की भी शुरुआत हो रही है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि अयोध्या-जनकपुर धाम बस सेवा दोनों राष्ट्रों के संबंधों को और मजबूत करेगी। इसके माध्यम से विकास की नई यात्रा भी आरंभ होगी।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने भारतीय डाक विभाग द्वारा प्रकाशित ‘स्पेशल कवर’ का अनावरण भी किया। यह स्पेशल कवर पिछले वर्ष दीपावली के अवसर पर अयोध्या में सरयू तट पर आयोजित ‘दीपोत्सव’ कार्यक्रम पर आधारित है। डाक विभाग का यह प्रकाशन अयोध्या की वैश्विक पहचान स्थापित कर राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों को आकर्षित करने का काम करेगा। साथ ही ‘दीपोत्सव’ के आयोजन की स्मृतियों को लंबे समय तक संरक्षित करने में भी सहायक होगा।
अपने सम्बोधन में मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पिछले वर्ष अयोध्या में ‘दीपोत्सव’ कार्यक्रम के दौरान 133 करोड़ रुपये की योजनाओं का शिलान्यास किया गया था। भारत सरकार ने राम-जानकी मार्ग को पूर्ण करने का जिम्मा भी लिया है। मार्ग बन जाने पर जनकपुर से अयोध्या पहुंचने में 10 से 12 घंटे की जगह मात्र 6 से 7 घंटे ही लगेंगे।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि यह बस सेवा पड़ोसी देश नेपाल और भारत के पौराणिक समय से चले आ रहे सांस्कृतिक व आध्यात्मिक संबंधों को और अधिक मजबूत बनाने में सहायक होगी। इस बस सेवा के जरिए श्रद्धालु भगवान श्रीराम की जन्मस्थली अयोध्या धाम तथा माता जानकी की जन्मस्थली जनकपुर धाम के बीच की 520 किलोमीटर की दूरी को सरलता और सुविधापूर्ण ढंग से तय कर सकेंगे।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि दोनों देश हजारों सालों से सांस्कृतिक व सामाजिक सबन्धों से जुड़े हुयेे हैं। ये एक ऐतिहासिक क्षण है। लोग बदले लेकिन हमारे सम्बन्ध आज भी अटूट हैं। महाराज दशरथ और राजा जनक का अटूट सम्बन्ध था। अयोध्या का जनकपुर और काठमांडू का काशी के साथ अटूट सम्बन्ध है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि नेपाल से आए अतिथियों को अयोध्या की संस्कृति से रूबरू होने का मौका मिलेगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि नेपाल से आये तीर्थ यात्रियों के स्वागत के लिये ‘अतिथि देवो भवः’ की परिकल्पना को साकार करें। यात्रियों को अयोध्या के धार्मिक स्थानों के भ्रमण तथा रात्रि विश्राम आदि में किसी प्रकार की दिक्कत न आये। उन्हांेने कहा कि राज्य सरकार ने सरयू आरती की भव्य शुरुआत की है तथा रामलीला का अनवरत मंचन भी प्रारम्भ कराया है। भगवान श्री राम की कथा का प्रसार थाईलैंड, कोरिया तथा इण्डोनेशिया आदि अनेक देशों में है तथा वहां के रामलीला दल अयोध्या में रामलीला का मंचन भी करते हंै।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सरयू जी में गिर रहे नालों को बन्द किया जायेगा। अयोध्या की ख्याति के अनुसार यहां का विकास होगा, घाटांे का विस्तार किया जाएगा।
इस अवसर पर नेपाल राष्ट्र के प्रान्त संख्या-2 के मंत्री श्री सरोज कुमार कुशवाहा ने कहा कि इस बस यात्रा के प्रारम्भ होने से भारत और नेपाल के बीच रामायण कालीन सम्बन्धों का नवीनीकरण हो रहा है, इससे धार्मिक पर्यटन को बल मिलेगा। इस अवसर पर प्रांन्त संख्या-2 की मंत्री श्रीमती ऊषा यादव ने भी अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम में उप महापौर जनकपुर धाम श्रीमती रीता कुमार मिश्रा भी उपस्थित थीं।
पर्यटन मंत्री श्रीमती रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि भारत-नेपाल के सम्बन्ध प्राचीन काल से हंै। उन्होंने आगंतुकों का स्वागत करते हुए कहा कि भारत से लाखांे लोग पशुपति नाथ के दर्शन के लिए नेपाल जाते हंै। इसी प्रकार लाखों लोग नेपाल से भारत आते हंै। माउण्ट ऐवरेस्ट पर जाने का रास्ता केवल भारत, नेपाल से है। अयोध्या के विकास के लिए 133 करोड़ रुपए के कार्य प्रारम्भ हो चुके हंै, जिनका हर 15 दिन पर निरीक्षण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अगले दीपोत्सव तक अयोध्या चमकने लगेगी।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए औद्योगिक विकास मंत्री/प्रभारी मंत्री श्री सतीश महाना ने कहा कि भारत और नेपाल के सम्बन्धांे को पुनः प्रारम्भ करने के लिये ऐतिहासिक शुरुआत हुई है।
कार्यक्रम को फैजाबाद के सांसद श्री लल्लू सिंह ने भी सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि भारत की संस्कृति प्राचीनतम है। इस बस सेवा के शुरू होने से अयोध्या और जनकपुर के सम्बन्ध और मजबूत होंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी सांस्कृतिक राष्ट्रवाद को मजबूती देने का कार्य रहे हैं।
अयोध्या भ्रमण के दौरान मुख्यमंत्री जी ने राम की पैड़ी के विभिन्न स्थलों का निरीक्षण किया। उन्होंने पवित्र सरयू नदी की पूजा-अर्चना भी की।
कार्यक्रम में महंत श्री नृत्य गोपाल दास जी, श्री सुरेश दास, श्री कन्हैया दास, श्री रामशरण दास, स्वामी रामानन्द जी महाराज, श्री कमल नयन दास, श्री राघवदास, श्री मोहनदास सहित जनप्रतिनिधिगण और शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Please Write Your Comments Below

Previous जानिए 7 कारण आखिर क्यों मां नहीं बन पाती हैं कुछ महिलाएं..
Next पीएमओ ने पूछा अखबारों पर किस आधार पर लगा जीएसटी