केजरीवाल का धरना काम से बचने का एक नया तरीका: बीजेपी

A new way of avoiding Kejriwal's hindrance work: BJP

A new way of avoiding Kejriwal's hindrance work: BJP

बीजेपी की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने मंगलवार को कहा कि उप – राज्यपाल कार्यालय में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके कैबिनेट सहकर्मियों का धरना ‘लोकतंत्र का मजाक’ है. वहीं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष विजेंदर गुप्ता ने विधानसभा में कहा कि केजरीवाल का धरना ‘काम से बचने’ का एक नया तरीका है. केजरीवाल और उनकी कैबिनेट के मंत्रियों ने कल उप – राज्यपाल अनिल बैजल के कार्यालय में रात बिताई.

मुख्यमंत्री केजरीवाल, उप – मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया , श्रम मंत्री गोपाल राय और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने सोमवार शाम 5:30 बजे बैजल से मुलाकात की और उसके बाद से वे वहां जमे हुए हैं. उप – राज्यपाल कार्यालय ने केजरीवाल के धरने की आलोचना करते हुए कहा कि यह ‘‘ बगैर किसी वजह के धरना ’’ की कड़ी में एक और प्रदर्शन है. ‘ आप ’ के कई विधायक , नेता और कार्यकर्ता भी उप – राज्यपाल दफ्तर के पास डेरा डाले हुए हैं और पुलिस ने इलाके की घेराबंदी कर दी है. उपराज्यपाल अनिल बैजल के कार्यालय में मौजूद केजरीवाल ने ट्वीट किया , ‘सत्येंद्र जैन ने अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल शुरू कर दी है.’’

सोमवार को मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर कहा – हमारी एलजी साहब से 3 विनती हैं – IAS अधिकारियों की गैरकानूनी हड़ताल तुरंत खत्म कराएं, क्योंकि सर्विस विभाग के मुखिया एलजी हैं, काम रोकने वाले IAS अधिकारियों के खिलाफ सख्त एक्शन लें, और राशन की डोर-स्टेप-डिलीवरी की योजना को मंजूर करें. मनोज तिवारी ने ट्वीट किया, ‘लोकतंत्र का मजाक बना रहे हैं. काम कुछ नहीं , सिर्फ ड्रामा.’ विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष विजेंदर गुप्ता ने कहा कि केजरीवाल का धरना ‘काम से बचने’ का तरीका है.

गुप्ता ने ट्विटर पर लिखा, ‘एयरकंडीशन्ड धरने पर पैर फैलाकर पसरे हुए हैं दिल्ली के मालिक अरविंद केजरीवाल , मनीष सिसोदिया , सत्येंद्र जैन और गोपाल राय. स्वादिष्ट व्यंजन बाहर से परोसे जा रहे हैं और दिल्ली की जनता पानी के लिए त्राहि – त्राहि कर रही है. काम से बचने का एक नया तरीक़ा.’

Please Write Your Comments Below

Previous भय्यूजी महाराज ने सुसाइड नोट में बयां की जिंदगी की उलझन!
Next मुख्यमंत्री ने नवनिर्मित अत्याधुनिक आलमबाग बस टर्मिनल का लोकार्पण किया