एक IIT इंजीनियर ने पेड़ काटे बिना उसके ऊपर बना दिया 4 मंजिला घर

IIT graduate transforms tree into four-storey building without biting

An IIT engineer made a 4-story house without cutting the tree.
     

उदयपुर।

आज तक लोगो ने केवल पछियों के ही घरौंदे पेड़ो पर देखे होंगे, क्या कभी किसी ने इंसानो द्वारा बनाई गई इमारत की कल्पना पेड़ की शाखाओं पर की है ? उदयपुर के चित्रकूटनगर में रहने वाले IIT कानपुर से इंजीनरिंग कर चुके KP Singh ने एक ऐसी ही इमारत की कल्पना बीस वर्ष पहले की थी जो आज साकार होकर लोगो के सामने है। उन्होने 1970 में IIT कानपुर से इंजीनरिंग की थी।इस इंजीनियर ने बिना पेड़ काटे उसके ऊपर 4 मंजिला घर बना दिया है।

ताज़्ज़ुब की बात ये है कि इसे बनाने में एक भी टहनी नहीं काटी गई हैं। इन कमरों के बीच से ही चाहे वो किचन हो या बाथरूम डालियां अंदर से गुजर रही हैं। टहनियों पर ही डाइनिंग टेबल और टीवी आदि के लिए स्टैंड बनाए गए हैं। ऊपर तक जाने वाली सीढ़ियां फोल्डिंग सिस्टम की हैं जिन्हें बटन दबाकर बंद किया जाता है। इस इमारत को देखने के लिए लोग दूर-दूर से आते है।

KP singh ने जब अपनी ये अनोखी परिकल्पना लोगो के सामने लाये तो लोगो ने उन्हें पागल समझा। यह परिकल्पना उनके लिए एक चैलेंज थी जिसे फोरमैन रहे शंकर जी लोहार के साथ मिलकर इस अनोखे मकान को डिजाइन कर सच कर दिया, इसी वजह से उनका नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज हुआ है।

KP Singh जी ने बताया जिस पेड़ पर मकान बना है, वो 87 साल पुराना है। उन्होंने यह मकान 1999 में बनाया था। आज इस मकान का 18 साल हो गए, लेकिन किसी प्रकार की परेशानी नहीं आई। वे कहते है जहां बड़े बड़े पेड़ टूट कर गिर जाते है लेकिन यह मकान अनेको आंधी तूफान झेलने के बाद भी वैसे का वैसे ही है, इसे किसी प्रकार का कोई नुकसान नहीं पहुचा है। इसकी वजह इसकी विशेष बनावट है जो से बना है। घर को इस कदर डिजाइन किया गया है कि पेड़ की टहनियों के साथ ये भी उसी दिशा में उसी proportion में हिलते हैं।

Please Write Your Comments Below

Previous LG से मिलने के इंतजार में केजरीवाल का धरना जारी!
Next भय्यूजी महाराज ने सुसाइड नोट में बयां की जिंदगी की उलझन!