अल्पसंख्यक मोर्चा ने निकली कमल जनसंदेश पदयात्रा


Kamal Janasandesh Yatra by the minority front.

 

बरेली। उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में शनिवार को भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा के तत्वावधान में गांधी स्मृति 150वीं जयन्ती के उपलक्ष्य में कमल संदेश पदयात्रा को निकालकर जनता को राष्ट्रीवादी संदेश दिया।
पदयात्रा का शुभारंभ हजियापुर से किया गया।भारतीय जनता अल्पसंख्यक मोर्चा पार्टी के प्रदेश मंत्री सहित तीन तलाक प्रमुख डॉ. नाज़िया आलम की अगुवाई तथा राष्ट्रीय ख्यातिलब्ध सामाजिक कार्यकर्ता प्रखर राष्ट्रवादी चिंतक एवं वक्ता डॉ. सयैद एहतेशाम-उल-हुदा की सरपरस्ती में पदयात्रा का आयोजन किया गया। जहां मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र में केंद्र सरकार द्वारा अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय के लिये विगत साढ़े 4 वर्ष में किये गए विकास कार्य और भारतिय जनता पार्टी की अल्पसंख्यक मुस्लिम समाज के प्रति भावी कार्ययोजनाओं के विषय में मुस्लिम समाज को विस्तार से जानकारी दी गयी साथ-साथ सरकार द्वारा जो योजनाएं ख़ासकर अल्पसंख्यक मुस्लिम समाज के लिये चलाई जा रही हैं उनकी प्रतियां घर-घर जाकर लोगों को भेंट की गयीं तथा राष्ट्रवाद की विचारधारा को जन-जन तक पहुँचाने की पदयात्रा के माध्य्म से अपील की गई।पदयात्रा हजियापुर, ईंट पजो का चौराहा,शाहदाना,दादू कुआं आदि मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्रो में निकाली गई पदयात्रा का जगह-जगह मुस्लिम समुदाय द्वारा स्वागत किया गया।

आकर्षण का केंद्र

संभवता प्रदेश में पहली बार कमल संदेश पदयात्रा के दौरान किसी दरगाह पर चादरपोशी एवं गुलपोशी का कार्यक्रम हुआ तथा “एक बार फिर-मोदी सरकार” के नारों के साथ डॉ. नाज़िया व् डॉ.एस.ई.हुदा द्वारा दरगाह शाह दाना वली साहब पर पेश की जाने वाली चादरें भी साथ-साथ चल रहीं थीं जो कौतूहल के साथ प्रमुख आकर्षण का केन्द्र रहा।


पदयात्रा का माहौल उस समय और सूफियाना हो गया गया जब पूरे रास्ते एक तरह हज़रत अमीर ख़ुसरो का लिखा कलाम मनकुंतो मौला फिज़ाओ में गूंजता रहा और दूसरी तरह भारतीय जनता पार्टी ज़िंदाबाद और एक बार फिर मोदी सरकार के नारे अल्पसंख्यक मुस्लिम छेत्रो में गूंजते रहे।
पदयात्रा की अगुवाई कर रहीं डॉ. नाज़िया आलम ने घर-घर जाकर मुस्लिम माँ-बहनों से बात की और इस बार फिर से मोदी जी की सरकार के लिये प्रतिबद्धता दिखाने व बीजपी की सरकार बनाने में मुस्लिम महिलाओं की भागीदारी सुनिश्चित करने का वचन लिया।वहीँ डॉ.एस.ई.हुदा ने अवाम से अपील करते हुए कहा कि मुस्लिम समाज का भविष्य बीजपी में पूर्णतः सुरक्षित है तुष्टिकरण की राजनीति का जो गंदा खेल पिछले 70 सालों में खेला गया है उसको जवाब देने के लिए इस बार 2019 मे एक बार फिर मोदी जी को हिंदुस्तान का प्रधानमंत्री बनवाने में अल्पसंख्यक मुस्लिम समाज को बढ़-चढ़ का सहयोग करना है,वोट कटवा पार्टियों,मुस्लिम वोटों के दलालों से सावधान रहना है और अपनी आने वाले नस्लों के भविष्य के लिये बीजपी सरकार बनवाने में अहम क़िरदार अदा करना है और मुख्य धारा में आकर देश को विश्व गुरु बनाने का मोदी जी का सपना साकार करना है।

डॉ नाज़िया आलम व् डॉ हुदा ने बताया कि इस पदयात्रा का मक़सद मुस्लिम समाज में जागरूकता पैदा करना है तथा सैकड़ो की संख्या में आज जो मुस्लिम समाज की महिलाओं व् पुरुषों ने इस पदयात्रा में भाग लिया है वो इस बात की दलील है कि मुस्लिम समाज मोदी जी को एक बार फिर से प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठाने का संकल्प ले चुका है।पदयात्रा का समापन डॉ.नाज़िया आलम तथा डॉ. एस.ई.हुदा द्वारा दरगाह शाह दाना वली सरकार पर गुलपोशी एवं चादर पोशी के साथ संपन्न हुआ जिसमें दरगाह के मोहतमिम हाजी बब्बू भाई, मीडिया प्रभारी वसी एहमद वारसी तथा दरगाह प्रबंधन और तमाम खुद्दाम हज़रात ने चादर पेश करवाई।दरगाह परिसर का माहौल उस समय ख़ुशगवार हो गया जब डॉ. नाज़िया आलम और डॉ. हुदा ने दरगाह प्रबंधन से 2019 में एक बार फिर से मोदी सरकार आने की दुआ करवाई।

पदयात्रा में प्रमुख रूप से शामिल होने वालों में अल्पसंख्यक मोर्चा के जिलाध्यक्ष परवेज़ मियां,उपाध्यक्ष शाहरोज़ खान,मीडिया प्रभारी इमरान खान,आशू बेग,वसीम खान,सलीम अंसारी,सय्यद समीर,गुल्लन खां, रिज़वान खान,सद्दाम फ़ैज़ान दरगाह शहदाना वली साहब की इंतेज़ामिया कमेटी से मुतव्वली हाजी वाजिद बब्बू भाई,वसी अहमद,अब्दुल गफ्फूर पहलवान,फरहत अली खान,ज़रदाब कुरैशी,जावेद खान,यूसुफ इब्राहीम आदि प्रमुख रूप से शामिल रहे।

reported by – संदीप चन्द्रा

Previous अतिक्रमण के दायरे में आने वाले क्या मंदिर क्या मस्जिद डीएम आंजनेय कुमार ने सभी को हटवाया
Next स्पा और बॉडी मसाज के नाम पर लखनऊ शहर में चल रहा कानूनी तौर से देह-व्यापार का धंधा