कौन हैं ये शख्स जो आजमगढ़ की सड़को पर चीखता चिल्लाता घूम रहा हैं?

मुख्तार अंसारी, बृजेश सिंह और राजा भइया से खुलेआम मांगता है रंगदारी!

Who is this man who is screaming on the road of Azamgarh?

 

आजमगढ़ से सम्बंधित एक ऐसा व्यक्ति जिसने अपनी पहचान सोशल मीडिया के जरिये बनायीं है, मगर वो बदनाम है लोगो के बीच में गन्दी गन्दी गालियॉं बोलने के लिए। ये कोई उसका बचाव नहीं है कि वो जो कर रहा है वो सही है ही है, मगर ये भी हो कि वो अपनी बात को रखने का या मशहूर होने का स्टंट मात्र कर सकते हैं। शासन और प्रशासन से हर कोई नाराज़ है मगर बोलने की हिम्मत किसी में नहीं कि फलां गलत है या अन्यायपूर्ण या भ्रष्ट है।

ये और कोई नहीं “एकला चलो” के सिद्धांत को फॉलो करता हुआ शख्स राजीव तलवार है. ये आजमगढ़ के हैं और एक स्कूल के प्रबंधक हैं. ये फेसबुक पर उल्लू TV नाम से एक पेज और यूट्यूब चैनल भी चलाते हैं. साथ ही इसी नाम से इनका एक पोर्टल भी है. कहा जाता है कि आजमगढ़ के DM और SP सब इनसे पनाह मांगते हैं. हम यह बिल्कुल नहीं कह रहे कि आप उल्लू टीवी देखें और इसका मतलब यह भी नहीं है कि हम उनसे ईर्ष्या करते हैं, लेकिन राजीव की बात बात में मशीनगन की तरह गालियां निकलती हैं जो शायद आपको पसंद न आएं।

आज जब भारत की सारी मीडिया जमीनी हक़ीक़त से बेफिक्र होकर खाली फ़र्ज़ी डिबेट शो करने में लगे हुए हैं और अपने आपको जज बनाकर सही गलत का फैसला करते हुए दिखाई दे जाते हैं तो वहीँ इस तरह की पत्रकारिता के दौर में जब एक आम आदमी के भीतर का पत्रकार जागता है तब वो सत्ता, सियासत और ब्यूरोक्रेसी को ललकारता हुआ कहता है कि –“हाँ मैं उल्लू टीवी से राजीव तलवार बोल रहा हूँ, क्या हमारे सवालों का कोई जवाब है आपके पास?” और यकीनन जो बेशर्म और बेगैरत चेहरे होते हैं वो चुप्पी साध कर आगे को बढ़ जाते हैं कि लोन इस पागल के मुंह लगे। ये बात और हैं कि जिम्मेदार लोगों से सवाल करने वाला कोई पागल, बावला या सिरफिरा नहीं है बल्कि वो तो बस सिस्टम, सत्ता और गन्दी सियासत पीड़ित एक आम आदमी भर हैं।

शब्दों पर मज़बूत पकड़ तो नहीं मगर दिल में मज़बूत जज़्बा है अपने शहर को दुनिया की नज़रो में बदनाम होने से बचाने के लिए, क्यूंकि आजमगढ़ उत्तर प्रदेश से बाहर दुनिया के कई हिस्सों में अपने किस्सों के लिए मशहूर है। समय के साथ हो सकता है ये आवाज़ खामोश हो जाय या कर दी जाय कोई कुछ नहीं कह सकता, मगर जो हौसला है भ्रष्टाचार, अन्याय और गुंडागर्दी से सीधा टक्कर लेने की तो वो इनमे जरूर झलकती है।

ये वो जाबांज़ पत्रकार हैं जो मुख्तार अंसारी, बृजेश सिंह और राजा भइया से खुलेआम रंगदारी मांगता हैं। मगर कभी-कभी राजीव के सवाल भी ऐसे सटीक होते हैं कि जवाब देना मुश्किल हो जाता है राजीव की इसी दिलेरी को लोग पसंद कर रहे हैं। बहरहाल हम उनसे यही कहेंगे कि कुछ भी हो पर भाषा पर नियंत्रण जरूरी है। कहीं आप से भी मुलाकात हो जाय तो इनके गाली गलौज के चेहरे को हटाकर इनके दिल को पढ़ने की कोशिश जरूर करियेगा। फिलहाल अभी वो आजमगढ़ की लोकसभा क्षेत्र से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं।

Special Report- @TheSuneelMaurya

Previous लोकतंत्र के सबसे बड़े आम चुनाव में जनता से जुड़े मुद्दों गायब - Er. R. P. सिंह
Next राम मनोहर लोहिया संयुक्त चिकित्सालय लखनऊ में लापरवाही से होता है लावारिस मरीजों का इलाज़ और सिर्फ खानापूर्ति