Posts in category

आयुर्वेद


मित्रो क्या आपने कभी विचार नहीं किया ?? कि आखिर जिस Refine तेल से आप अपनी और अपने छोटे बच्चों की मालिश नहीं कर सकते, जिस Refine को आप बालों मे नहीं लगा सकते, आखिर उस हानिकारक Refine तेल को कैसे खा लेते हैं ?? आज से 50 साल पहले तो कोई रिफाइन तेल के …

मित्रो हमारे बच्चे स्‍वस्थ हों, तन्दरुस्त हों, मेधावी हों, उनके जीवन मे इंटेलिजेन्सी हमेशा हो, | Q अच्छा रहे, समाज का काम करें. किसी भी माँ या पिता को अपने जीवन मे सबसे अच्छा बच्चा चाहिए तो उनका नियोजन करना पड़ेगा. बिना नियोजन के बच्चे दाऊद इब्राहिम होते हैं. माता बहन को पीटते हैं. हम …

लोंग को अधिकतर मसाले के रूप में यूज किया जाता है लेकिन अगर रोज सुबह शाम एक लोंग खाएं तो यह कई तरह के हेल्थ बेनिफिट्स देता है इसमें कैल्शियम, फोस्फोरस,आयरन, सोडियम, पोटासियम, और विटामिन च पर्याप्त मात्र में पाए जाते हैं 1.ओरल हेल्थ लोंग में एंटीइन्फ्लामेटरी प्रॉपर्टी पाई जाती है रोज एक लौंग खाने …

एक स्वस्थ शरीर की निशानी है शरीर में प्लेटलेट्स की सही मात्रा होना एवं उनका सही तरीके से काम करना. लेकिन प्लेटलेट्स की कमी होने का नुकसान आपके शरीर एवं स्वास्थ्य को भुगतना पड़ता है. शरीर में प्‍लेटलेट्स की संख्‍या कम होने की स्थिति को थ्रोम्बोसाइटोपेनिया के नाम , जाना जाता है. एक स्वस्थ व्यक्ति …

दोस्तों जब से कंप्यूटर आया है तब से दुनिया ने कुछ वास्तविकताओ को स्वीकार करना शुरू कर दिया है जिनमे से एक है कि सबसे पहली भाषा और सबसे पहली लिपि अगर दुनिया को किसी ने दी है तो वो भारत ने दी है. लिपि को आप सब समझते ही होंगे, जिसमे भाषा लिखी जाती …

दोस्तों अब तक हमने चार सूत्रों पर बात की है, जो आपके लिए बहुत जरुरी है. अगर आप उनका पालन करे तो जिंदगी भर निरोगी रह सकते है. पहला सूत्र :- पहला सूत्र ये था कि “भोजनान्ते विषमभारी” अर्थात भोजन के अंत मे पानी बिलकुल नही पीना है, डेढ़ घन्टे के बाद ही पानी पीना है. …

नमस्कार दोस्तों, आपका हमारी वेबसाइट में एक बार फिर से स्वागत है. आज हम आपके लिए राजीव दिक्सित जी द्वारा बतया गया एक और उपयोग लाये है जिसका नाम है मिट्टी. तो दोस्तों अज हम आपको बतायेंगे की मिट्टी के बर्तनों के साधारण मनुष्य के लिए क्या क्या फायदे हो सकते है. क्या आप जानते …

आजकल का खानपान और रहन-सहन बहुत बदल गया है, जो बहुत घातक सबित भी हो रहा है, जिस कारण बहुत सी बीमारियों ने हमारे शरीर में घर बना लिया है, जिनमे से एक है, पाइल्स यानि बवासीर. बवासीर तब होती है जब गुदा और मलाशय की नसों में किसी कारण बस सूजन और इन्फ्लामेशन होने …

1- दही मथें माखन मिले, केसर संग मिलाय, होठों पर लेपित करें, रंग गुलाबी आय 2- बहती यदि जो नाक हो, बहुत बुरा हो हाल, यूकेलिप्टिस तेल लें, सूंघें डाल रुमाल 3- अजवाइन को पीसिये , गाढ़ा लेप लगाय, चर्म रोग सब दूर हो, तन कंचन बन जाय. 4- अजवाइन को पीस लें , नीबू …

जैसा कि हम सब जानते ही हैं कि आयुर्वेद में बहुत ही स्पष्ट लिखा गया है कि गर्म पानी से कभी स्नान नहीं करना चाहिए. नहाने के लिए हमेशा ठन्डे पानी का इस्तेमाल करें. क्योकि ठन्डे पानी का तापमान समान्य रहता है जिससे शरीर को किसी प्रकार की कोई हानि नही पहुँचती. मान लीजिये कि …