Posts in category

विचार


मृत्युंजय दीक्षित हिंदू समाज को छुआछूत जैसी घृणित परम्परा से मुक्ति दिलाने वाले महान संत रविदास का जन्म धर्मनगरी काशी के निकट मंडुआडीह में संवत 1433 की पूर्णिमा को हुआ था। संत रविदास के पिता का नाम राघव व माता का नाम करमा था। जिस दिन उनका जन्म हुआ उस दिन रविवार था इस कारण …

मृत्युंजय दीक्षित फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली की फिल्म पदमावत के खिलाफ जिस प्रकार से हिंसक प्रदर्शन हुए वह कहीं देश विरोधी एक और साजिश तो नहीं है? जिस समय पीएम नरेंद्र मोदी विश्व आर्थिक मंच के सम्मेलन में भारत की शानदार तस्वीर पेश कर रहे थे और वह कह रहे थे कि आइये हम …

भारत का लोकतंत्र विश्व का सबसे विशाल लोकतंत्र होने के साथ काफी रहस्यमयी भी है।इतिहास के पन्नो को खंगालने पर यह पता चलता है की पूर्व में और आज भी सत्ता के संतुलन को बनाये रखने के लिए कई खूनी इबारतें भी लिखी गईं हैं।और उंगली जब लोकतांत्रिक महामूर्तियों पर उठने लगे तब तो यह …

ब्युरो S.I.न्यूज़ टुडे-(पुष्पेन्द्र प्रताप सिंह): आज और बीते हुए कल के बीच के निरंतर संवाद को इतिहास कहते हैं। यही इतिहास देश का गौरव उसकी बुनियाद और वर्तमान समाज का दर्पण होता है। इतिहास मात्र एक कहानी नहीं राजनीतिक, सामाजिक और सांस्कृतिक व्यवस्थाओं का लेखा जोखा है। इतिहास से छेड़ छाड़ पर हमारा भूत ही …

मृत्युंजय दीक्षित लोकसभा और विधनसभा चुनावों में ऐतिहासिक पराजय के गम से लगता है कि सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव व उनका परिवार अभी तक उबर नहीं पाया है। सपा मुखिया मुलायम सिंह अपने बयानों से काफी निराशावादी व दिग्भ्रमित प्रतीत हो रहे है। वह अपने बयानों से न तो समाजवादी लग रहे है और …

मृत्युंजय दीक्षित वर्तमान में गुजरात चुनावों के कारण कांग्रेस सहित समूचा विपक्ष अचानक से सरकार से शीतकालीन सत्र जल्द बुलाने की मांग करने लग गया है। पता नहीं देश में आखिर ऐसा क्या हो गया है कि आज सभी विपक्षी दलों को संसद की बड़ी चिंता हो गयी है। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि …

Source :Viwe Source रूमाना सिद्दीक़ी – मुझे सच में आज तक समझ नही आया की मौलवी कपड़ों के छोटे-बड़े, कम ज्यादा आदि बातों पर ही क्यों फतवे जारी करते हैं कभी इस बात पर फ़तवा क्यों नही निकलता की – *सभी लड़कियों का पढ़ना जरूरी है। *औरत की इज़्ज़त करें। *भ्रूण हत्या इस्लाम के खिलाफ …

Source :Viwe Source रूमाना सिद्दीक़ी – हर दिन देश में हजारो बलात्कार होते है जो की मर्द की विकृत हवसी शैतानी मानसकिता की ऊपज है। इन बलात्कारियो के आगे सभी कायदे कानून तब तक ध्वस्त है जब तक बलात्कारी को 1 साल के अंदर फांसी का फ़रमान न जारी हो जाये। अगर किसी को 5 …

मृत्युंजय दीक्षित उत्तर भारत के अधिकांश हिस्सों में सत्त्तासीन होने के बाद भारतीय जनता पार्टी की नजरें अब बेहद कमजोर व चुनौतीपूर्ण राज्यों के चुनावों को जीतने में लग गयी हैं। केरल एक ऐसा राज्य है जहां राजनैतिक हत्याओं का बाजार गर्म है तथा इस हिंसक राजनीति के खिलाफ अब भारतीय जनता पार्टी व आरएसएस …

पुष्पेंद्र प्रताप सिंह -कल पूरे भारत अपितु विश्व के कई देशों में विजयदशमी का पर्व मनाया गया। बचपन से सुनता आ रहा हूँ कि बुराई पर अच्छाई की जीत हुई है। लेकिन ऐसा केवल सुनता आ रहा हूँ देखने को कम ही मिलता है। एक प्रकांड विद्वान 10 सिर वाले अपनी बहन के आत्मसम्मान के …