Sunday, April 21, 2024
featured

अविका गौर से अब तक ये टीवी एक्ट्रेस ‘बालिक वधू’ में बनी हैं आनंदी

SI News Today

कलर्स का टीवी सीरियल बालिका वधू हर घर में बहुत ही चाव के साथ देखा जाता था। अपनी पॉपुलेरिटी के चलते सीरियल ने दर्शकों के दिल में एक खास जगह बनाई। इसके चलते सीरियल 21 जुलाई 2008 से 31 जुलाई 2016 तक चला। इस सीरियल में आनंदी बनी अविका गौर ने बतौर चाइल्ड एक्टर इस सीरियल को ज्वॉइन किया। इस दौरान छोटी आनंदी को दर्शकों का भरपूर प्यार मिला। लोगों ने अविका की एक्टिंग को खूब सराहा। आलम यह था कि जब जब स्क्रीन पर छोटी आनंदी दादी सा के डांटने पर रोती थी, दर्शक भी उसके साथ रोना शुरू कर देते थे।

इसके बाद सीरियल में आनंदी बड़ी हो जाती है। जाहिर है छोटी आनंदी के रोल के लिए दूसरी एक्ट्रेस की एंट्री होती है। इस दौरान प्रत्यूषा बनर्जी सीरियल में एंट्री लेती है। प्रत्यूषा बनर्जी बालिका वधू में आनंदी के किरदार के लिए जानी गई। इस सीरियल से जाने के बाद कुछ वक्त बाद प्रत्यूषा बनर्जी की मौत हो गई थी।

प्रत्यूषा की मौत से पहले वह सीरियल छोड़ चुकी थीं। इस दौरान सीरियल में एक नए चेहरे को आनंदी बना कर पेश किया गया। इस बीच एक्ट्रेस तोरल रासपुत्रा को आनंदी बनने का मौका मिला। सीरियल में जब तक अविका गौर छोटी आनंदी का किरदार निभा रहीं थीं तक बालिका वधू के टीआरपी रेटिंग्स अच्छे चल रहे थे।

लेकिन अविका के जाने के बाद सीरियल की टीआरपी में फर्क पड़ा। तोरल रासपुत्रा ने बालिका वधू ज्वॉइन किया। तोरल रासपुत्रा ‘धूम मचाओ धूम’ में प्रियंका, ‘यहां के हम सिकंदर’ में राइमा, ‘रिश्तों की डोर में’ शाइना, ‘केसरिया बालम आवो हमारे देस’ में रसाल और ‘एक नई छोटी सी जिंदगी’ में ईशा का किरदार निभा चुकी हैं।

सीरियल में आनंदी और जगदीश दो छोटे बच्चे होते हैं जिनकी बचपन में ही शादी करा दी जाती है। जब वह दोनों बड़े हो जाते हैं तो जगदीश गौरी से प्यार करने लगता है और आनंदी को तलाक टेकर गौरी से शादी कर लेता है। इसके बाद आनंदी की मुलाकात जिलाध्यक्ष शिवराज शेखर से होती है। बाद में वह दोनों शादी कर लेते हैं।

इस दौरान जगदीश को अपने गलती का एहसास होता है और वह घर लौट आता है। तब उसे पता चलता है कि आनंदी की शादी हो चुकी है। उसके बाद वह एक गंगा नाम की लड़की से मिलता है। वह भी बाल विवाह की शिकार होती है। जग्दीश उसे बचाता है। इसके बाद उससे शादी कर लेता है। इसके बाद वह उसके बच्चे मन्नू को भी अपना लेता है। इस दौरान उनका एक और बेटा होता है अभिमन्यु। वहीं आनंदी और शिवराज एक बच्चे को गोद लेते हैं और वह बच्चे को असली मां बाप का प्यार देते हैं। शादी के दो साल के बाद ही आतंकवादी शिवराज को मार देते हैं। उसी दौरान आनंदी दो बच्चों को जन्म देती है – शिवम और नंदिनी। इसके बाद गंगा पढ़ाई पूरी कर के एक चिकित्सक बन जाती है। इसी दौरान आनंदी की बेटी नंदिनी को कोई अपहरण कर लेता है। वह बाद में उस अपहरणकर्ता के बेटे के साथ शादी कर लेती है। आनंदी अपनी बेटी को नहीं खोज पाती है। 11 साल के बाद आनंदी एक शिक्षिका बन जाती है।

SI News Today

Leave a Reply