Tuesday, February 27, 2024
featuredदेश

अगर इन बातों नहीं रखेंगे ध्यान तो बैंक नहीं देगा लोन, जानिए…

SI News Today

क्रेडिट स्कोर, लोन लेने के लिए सबसे अहम होता है क्योंकि इससे एक व्यक्ति के उधार लेने और उधार चुकाने की आदत के आधार पर उसके उधार लेने की क्षमता का पता चलता है। बैंक किसी लोन को मंजूर करने के लिए 750 के स्कोर को उपयुक्त मानते हैं। पर्सनल फाइनैंस के लिए इतना महत्वपूर्ण होने के बावजूद, इस क्रेडिट स्कोर के बारे में कई लोग इससे अनजान हैं। हम क्रेडिट स्कोर के बारे में कुछ ऐसी बातों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके बारे में आप शायद नहीं जानते होंगे।

क्रेडिट स्कोर शून्य होने पर
आपने अगर किसी भी तरह का कोई लोन नहीं लिया है तो आपका क्रेडिट स्कोर शून्य होगा, क्योंकि बैंकों के पास आपके नाम से कोई क्रेडिट रिकॉर्ड नहीं होगा। लेकिन, इसका मतलब यह नहीं है कि आपको लोन नहीं मिल सकता है। यदि आपका क्रेडिट स्कोर शून्य है तो बैंक आपको लोन देने से इनकार नहीं करेगा लेकिन वे आपको पैसे उधार देने से पहले आपके उधार चुकाने की क्षमता का पता लगाने के लिए आपसे आय का प्रमाण, पिछले दो साल के आईटीआर की कॉपी और यूटिलिटी बिल्स की कॉपी देने के लिए कह सकते हैं।

उपयोग-रहित क्रेडिट कार्ड अकाउंट को बंद करने पर
एक उपयोग-रहित क्रेडिट कार्ड अकाउंट को बंद कर देने से आपको आगे चलकर काफी मदद मिल सकती है। उपयोग-रहित क्रेडिट कार्ड अकाउंट रखने से क्रेडिट स्कोर में गिरावट आ सकती है। यदि बैंक और फाइनैंशल कंपनियां, कार्ड पर लागू होने योग्य शर्तों में फेरबदल करती हैं तो आप उनसे अनजान होने के कारण उनका पालन करने से चूक सकते हैं, जिससे आपके क्रेडिट स्कोर पर काफी प्रभाव पड़ सकता है। क्रेडिट अकाउंट बंद करने पर बैंक से हमेशा एक क्लोजर लेटर जरूर लें।

क्रेडिट रिपोर्ट को बार बार एक्सेस करने पर
आपके क्रेडिट रिपोर्ट को बार बार एक्सेस करने से आपके क्रेडिट स्कोर पर प्रभाव पड़ सकता है। लोन एप्लीकेशन के संबंध में आपके क्रेडिट रिपोर्ट का आकलन किए जाने पर, आपका स्कोर कुछ पॉइंट नीचे गिर जाता है। बैंकों को आपकी विश्वसनीयता का आकलन करने के लिए आपकी रिपोर्ट देखनी पड़ती है। कई लोन एप्लीकेशन से आपका स्कोर और कम हो जाता है। हालांकि, यदि आप ऑनलाइन अपना स्कोर चेक करते हैं तो उसे सॉफ्ट इनक्वायरी कहा जाता है और आपके क्रेडिट स्कोर पर इसका प्रभाव नहीं पड़ता है।

अधिक आय का मतलब अधिक स्कोर नहीं
क्रेडिट स्कोर से आपके उधार लेने और उधार चुकाने के संबंध में आपकी विश्वसनीयता का पता चलता है। आपके स्कोर पर आपकी आय के आकार का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। यदि आप समय पर लोन की ईएमआई नहीं दे रहे हैं तो इसका फर्क पड़ता है। क्रेडिट स्कोर हर गुजरते दिन के साथ अधिक से अधिक महत्वपूर्ण होता जा रहा है। यहां तक कि नियोक्ता और इंश्योरेंस कंपनियां भी एक व्यक्ति के प्रोफाइल के बारे में जानने के लिए उनका क्रेडिट स्कोर देखने लगी हैं। इसलिए, एक स्मार्ट डेब्ट प्लान लेकर और उसे समय पर चुकाने की कोशिश करें ताकि एक अच्छा क्रेडिट स्कोर बन सके और आगे चलकर एक अच्छा लोन मिल सके।

SI News Today

Leave a Reply