Wednesday, July 24, 2024
featuredउत्तर प्रदेशदेश

इलाहाबाद हाई कोर्ट की 150वीं वर्षगांठ, योगी आदित्य नाथ बोले- कानून शासकों का भी शासक

SI News Today

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ रविवार (2 अप्रैल) को इलाहाबाद हाईकोर्ट की स्थापना दिवस पर होने वाले कार्यक्रम में शामिल हो रहे हैं। उनके साथ चीफ जस्टिस जे एस खेहर भी मौजूद हैं।

2.15 : सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस जे एस खेहर कर रहे हैं कार्यक्रम को संबोधित

11.50: योगी आदित्य नाथ ने कहा कि कानून शासकों का भी शासक होता है।

11.40: योगी आदित्य नाथ ने कहा कि कानून से बड़ा कोई नहीं होता।

11.30: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने बोलना शुरू कर दिया है। अब वह अपनी बात रख रहे हैं।

11.00: कार्यक्रम शुरू हो गया है। कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बोलना शुरू कर दिया है।

10.40: मोदी कार्यक्रम में पहुंच चुके हैं। उनके साथ चीफ जस्टिस जे एस खेहर भी मौजूद हैं। यूपी के राज्यपाल राम नाइक भी वहां हैं।

10.30: पीएम मोदी इलाहाबाद पहुंचे। योदी आदित्य नाथ ने उनका स्वागत किया।

योगी के सीएम पद संभालने के बाद दोनों पहली बार किसी सार्वजनिक मंच पर एक साथ दिख रहे हैं। इयह कार्यक्रम इलाहबाद हाईकोर्ट के 150 साल पूरे होने पर किया जा रहा है। इसके लिए रविवार को समापन समारोह हो रहा है। इलाहाबाद हाई कोर्ट एशिया का सबसे पुराना और बड़ा कोर्ट है। पहले यह आगरा में था। वहां बनने के तीन साल के बाद इसको 1916 में इलाहाबाद में बनाया गया। इसकी दूसरी बेंच लखनऊ में भी है।

इलाहाबाद हाई कोर्ट से लगभग 17 हजार वकील जुड़े हुए हैं। यहां जजों के तकरीबन 100 से ज्यादा पद हैं। इलाहाबाद हाई कोर्ट इकलौता ऐसा हाईकोर्ट है जिसका अपना म्यूजियम और गैलरी भी है।

इलाहाबाद हाई कोर्ट के कुछ ऐतिहासिक फैसले: इलाहाबाद हाई कोर्ट ने ही इंदिरा गांधी का निर्वाचन रद्द किया था। जगदंबिका पाल को भी यूपी के सीएम पद से हटाने का फैसला इलाहाबाद हाई कोर्ट ने ही दिया था। अयोध्या जमीन विवाद पर इलाहाबाद हाई कोर्ट ने ही जमीन का बंटवारा किया था। जिसमें राम मंदिर, बाबरी मस्जिद और अखाड़े के नाम पर तीन जगह बंटवारा किया गया था।

 

SI News Today

Leave a Reply