Sunday, May 19, 2024
featuredदेशबिहार

बिहार: पटना चिड़ियाघर के सीसीटीवी फुटेज से भी छेड़छाड़ की आशंका

SI News Today

बिहार के चर्चित मिट्टी घोटाले के प्रमाणिक साक्ष्य को मिटाने की गुपचुप कार्रवाई शुरू हो चुकी है? कहा जा रहा है कि पिछले आठ दिनों में पटना चिड़ियाघर का एक अधिकारी मिट्टी ढुलाई सम्बन्धित फाइल के साथ पुरनका ‘राजा’ से 11 बार मिल चुका है। उनको सख्त आर्डर मिला है कि चिड़ियाघर में लगाए गए सीसीटीवी व खुफिया कैमरे के फुटेज को एडिट करके साक्ष्य को निकालो। सनद रहे कि चिड़ियाघर में लगभग 50 कैमरे विभिन्न स्थानों पर फिट किए गए हैं। ये कैमरे 24 घंटे आपरेशन में रहते हैं। चिड़ियाघर के अन्दर हाइवा से ढोए गए मिट्टी और रात के बेला में उस मिट्टी का जेसीबी मशीन द्वारा किया जा रहा समतलीकरण का सारा प्रमाण इन कैमरों में कैद है। वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्सन एक्ट के तहत सुर्यास्त के बाद चिड़ियाघर के अन्दर किसी भी तरह का निर्माण कार्य करना सख्त वर्जित है।

खबर आ रही है कि जिस कन्सट्रक्सन कम्पनी पर दर्जन भर हाइवा मशीनों से पुरनका राजा के निर्माणाधीन शापिंग माल से मिट्टी लादकर पटना चिड़ियाघर में गिराने का आरोप लगा है उसे भी जुबान पर लगाम लगाए रखने की सख्त हिदायत दे दी गई है। पुष्ट खबरों के अनुसार उसका भुगतान भी रोक दिया गया है। कम्पनी में कार्यरत एक कर्मचारी ने बताया कि ‘बड़का साहब’ ने पक्का आश्वासन दिया है कि मिट्टी ढुलाई की तमाम बकाया राशि को पथ निर्माण विभाग में ठेका देकर कमपनसेट कर दिया जाएगा। पथ निर्माण विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि ‘‘कर्मचारी के पास अधूरी जानकारी है। मेरे इनफारमेशन के अनुसार कन्सट्रक्सन कम्पनी के मालिक को एक बड़ा टेंडर एलौट कर-कराके आलरेडी कमपनसेट कर दिया गया है।’’

वहीं दूसरी तरफ बंटी यादव नाम का आदमी प्रति हाइवा 4500 रुपये मिट्टी का भुगतान वन विभाग से ले चुका है। उसका साइन किया हुआ प्राप्ति रसीद भी चिड़ियाघर के अधिकारियों के पास है सूचना है कि उन प्राप्ति रसीदों को भी नष्ट करने की तैयारी हो रही है या फिर किया जा चुका है। बंटी यादव को शहर से बाहर भेज दिया गया है। कागज में भले इसका नाम न हो जैसा कि चिड़ियाघर निर्देशक नंदकिशोर कहते हैं, लेकिन चिड़ियाघर के दोनों गेटों के आस-पास के सभी लोगों का कहना व मानना है कि प्रैक्टिकली पार्किगं स्टैंडस बंटी यादव का ही है।

इसी बीच एक नई खबर छनकर आ रही है कि शापिंग माल को बनाकर एक अध्यात्मिक बाबा को बहुत मोटे किराए पर देने की बातचीत अंतिम दौर में है। भगवा बाबा दवा से लेकर दाल तक का उत्पादन करने और उसे बेचने के धंधे में भी सफलतापूर्वक सक्रिय हैं। एक समय मे चर्चा थी की बाबा के भतीजी की शादी पुरनका राजा के पुत्र से होना है। लेकिन बाद में इसका खंडन आ गया।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने रविवार (10 अप्रैल) को एक प्रेस कांफ्रेंस करके अपने बेटों तेज प्रताप यादव और तेजस्वी यादव के किसी भी प्रकार के घोटाले में शामिल होने के आरोपों से इनकार किया। तेजस्वी और तेज दोनों ही बिहार की नीतीश कुमार सरकार में मंत्री हैं। हालांकि लालू यादव ने ये स्वीकार किया कि जिस जमीन पर मॉल बन रहा है उसमें 50 फीसदी की हिस्सेदारी उनकी पत्नी राबड़ी देवी और बेटों तेजस्वी और तेज की है। लालू ने कहा कि अगर मेरे परिवार के पास जमीन है तो उस पर कमर्शियल मॉल क्यों नहीं बन सकता।

SI News Today

Leave a Reply