Saturday, April 13, 2024
featuredलखनऊ

रामपुर में हिंसक हुई आजम खान और नवाब खानदान की जंग

SI News Today

रामपुर.यहां गुरुवार देर रात दो बजे के करीब पूर्व विधायक नवेद मियां के बेटे हमजा पर हमला हो गया है। हमजा ने पुलिस को दी तहरीर में आरोप लगाया है कि यह हमला आजम खान के बेटे और स्वार-टांडा से विधायक अब्दुल्ला आजम के इशारे पर हुआ है। पुलिस ने विधायक अब्दुल्ला समेत सात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है। वहीं, इस मामले में सपा नेताओं की ओर से भी नवेद मियां, उनके बेटे हमजा समेत पांच के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है। ये है मामला…

– बताया जा रहा है कि पूर्व विधायक नवेद मियां के बेटे हमजा एक दोस्त के यहां से लौट रहे थे। चौकी चौक के पास उनकी कार के सामने स्वार-टांडा विधायक अब्दुल्ला आजम के समर्थकों की कार आ गई। पीछे हटाने को लेकर दोनों पक्षों के असलहे निकल आए। फायरिंग और पथराव हुआ।

– हमजा ने पुलिस को दी तहरीर में आरोप लगाया कि कार सवार युवकों ने तमंचे से जानलेवा हमला किया जिसमें वह बच गए। गाड़ी भी क्षतिग्रस्त कर दी। घटना विधायक अब्दुल्ला के इशारे पर हुई है।

– उधर इसी मामले को लेकर शुक्रवार को सपाई शहर कोतवाली पहुंचे और शौकत रोड निवासी मुहम्मद सालिम पुत्र महबूब अली की ओर से तहरीर दी, जिसमें इसी तरह के आरोप लगाए गए।

– इस मामले में नवेद मियां, बेटे हमजा समेत पांच के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। शहर कोतवाल मनोज कुमार सिंह ने बताया कि जांच कराई जा रही है।

नवाब परिवार मेरी हत्या की साजिश कर रहा: अब्दुल्ला आजम
– वहीं, इस मामले में स्वार-टांडा विधानसभा क्षेत्र से विधायक अब्दुल्ला आजम ने कहा- ”नवाब परिवार मेरी हत्या की साजिश कर रहा है। इस विधानसभा क्षेत्र से चार बार नवाब काजिम अली खां उर्फ नवेद मियां विधायक रहे थे। इस बार मैंने उन्हें हरा दिया। यह हार नवाब खानदान को बर्दाश्त नहीं हो रही है।”

– ”पहले मेरा नामांकन खारिज कराने के लिए उम्र को लेकर आपत्ति की गई थी। उसमें सफलता नहीं मिली तो जानलेवा हमले कराए जा रहे हैं। रात भी पूर्व विधायक के इशारे पर उनके बेटे ने मेरी हत्या की कोशिश की। मेरे पास गाड़ी नहीं है। मैं अपने दोस्तों के साथ उनकी गाड़ी में आता-जाता हूं। रात हमले के समय पूर्व विधायक और उनके बेटे को यही लगा कि गाड़ी में मैं भी बैठा हूं। संयोग से मैं गाड़ी में नहीं था।”

– ”मेरे पिता आजम खां के बारे में भी बराबर धमकियां दी जा रही हैं। कोई सिर काटने पर तो कोई जुबान काटने पर इनाम घोषित कर रहा है। हमारे परिवार को जान का खतरा बना है। आरोपियों को शीघ्र ही गिरफ्तार नहीं किया गया तो मैं इस मुद्दे को विधानसभा में उठाऊंगा।”

नवेद की पत्नी बोली- हत्या कराना चाहते हैं आजम
– पूर्व विधायक नवेद मियां की पत्नी यासीन अली खां उर्फ शाहबानो ने पूर्व मंत्री आजम खां से पति और बेटे की जान को खतरा बताया है। उन्होंने पुलिस अधीक्षक को प्रार्थना पत्र देकर आजम खां और उनके बेटे अब्दुल्ला के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की है।

– उनका कहना है कि पूर्व मंत्री आजम खान और उनका विधायक बेटा बार-बार मेरे पति और बेटे नवाबजादा हैदर अली खां उर्फ हमजा मियां पर हमले करा रहे हैं। आजम मेरे पति और बेटे की हत्या करना चाहते हैं।

– गुरुवार रात भी बाजार नसरुल्ला खां चौकी चौक पर मेरे बेटे को सपाइयों ने घेर लिया। विधायक अब्दुल्ला के इशारे पर जानलेवा हमला किया। बेटे पर गोलियां चलाईं। बेटे ने किसी तरह जान बचाई।
मामला हाई प्रोफाइल, जांच की जा रही है: एसपी

इस मामले पर एसपी का कहना है कि- हमजा मियां की शिकायत पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है। वहीं, सपा नेताओं की ओर से भी मामले में केस दर्ज कराया गया है। मामला हाई प्रोफाईल है। जांच की जा रही है।

3 साल में कई बार भि‍ड़ चुके हैं आजम और नवाब समर्थक
– बता दें, तीन साल में आजम खान और नवाब परिवार के समर्थक कई बार भि‍ड़ चुके हैं।
#पहला मामला:तीन साल पहले लोकसभा चुनाव के दौरान जब नवेद मियां कांग्रेस के टिकट पर प्रत्याशी थे। हमजा मियां टीम के साथ पिता के प्रचार में शहर में घूम रहे थे। इस दौरान सपाइयों से आमना-सामना हो गया। उनके प्रचार वाहन पर सपाइयों ने हमला कर दिया था।

– आरोप लगा कि कांग्रेसियों ने भी हमला किया। हालांकि तब सपा की सरकार थी। इसके चलते सपाइयों के खिलाफ दर्ज मुकदमे में फाइनल रिपोर्ट लग गई, जबकि कांग्रेसियों के खिलाफ चार्जशीट लगी। फैसल लाला और आसिम खां को जेल भी भेज दिया गया।

#दूसरा मामला: विधानसभा चुनाव के दौरान रामपुर में 15 फरवरी 2017 को मतदान हुआ था। स्वार-विधानसभा क्षेत्र से चार बार के विधायक नवेद मियां बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे थे तो दूसरी ओर सपा से अब्दुल्ला आजम पहली बार चुनाव लड़ रहे थे। इस में अब्दुल्ला की जीत हुई थी, लेकिन चुनाव में दोनों परिवारों की रंजिश को खूब हवा मिली।

– मतदान के बाद भी दोनों पक्ष भिड़ गए थे। फायरिंग की गई। सड़क पर जाम लगा दिया। इससे मतदान कराकर वोटिंग मशीन के साथ लौट रहे कर्मचारी भी जाम में फंस गए थे। तब तत्कालीन डीएम और एसपी को मौके पर जाना पड़ा था।

– बता दें, उसी दिन टांडा में भी नवेद मियां पर हमला हुआ था। मामले में भी सपाइयों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज हुई।

SI News Today

Leave a Reply