Wednesday, July 24, 2024
featuredदेश

योगगुरु बाबा रामदेव के इस ट्वीट पर लोगों ने दी तीखी प्रतिक्रियाएं…

SI News Today

पंचकूला की सीबीआई अदालत द्वारा डेरा सच्‍चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को बलात्‍कार के एक मामले में दोषी ठहराए जाने के बाद पंजाब और हरियाणा के कई इलाकों में हिंसा भड़क उठी है। सिर्फ पंचकूला में ही 28 लोगों की जान डेरा समर्थकों की हिंसा में चली गई, वहीं सिरसा में तीन लोग मारे गए। हिंसा की घटनाएं दिल्‍ली, नोएडा और गाजियाबाद में भी हुईं, जहां कथित तौर पर डेरा समर्थकों ने खाली बसों और ट्रेन के डिब्‍बों में आग लगा दी। हरियाणा व दिल्‍ली के कई इलाकों में धारा 144 लगा दी गई है। उत्‍तराखंड के नैनीताल में भी धारा 144 लागू कर दी गई है।

यूपी के बागपत व गाजियाबाद में शनिवार को एहतियातन स्‍कूल बंद कर दिए गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को एक ट्वीट में हिंसा की निंदा करते हुए कहा था कि कानून-व्‍यवस्‍था पर करीब से नजर रखी जा रही है। पंजाब व हरियाणा के मुख्यमंत्रियों अमरिंदर सिंह व मनोहर लाल खट्टर ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने अमरिंदर सिंह व खट्टर से बातचीत कर कानून व व्यवस्था को बनाए रखने के लिए मदद का भरोसा दिया। दिल्‍ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की।

ऐसे में राम रहीम को लेकर योगगुरु बाबा रामदेव ने भी ट्वीट किया है। हालांकि ट्वीट में उन्हें कहीं भी राम रहीम का नाम नहीं लिया। ट्वीट में योगगुरु ने लिखा, ‘धर्म जीवन का श्रेष्ठ आचरण है। हिंसा, उन्माद , पागलपन, अंधश्रद्धा व पाखण्ड धर्म नहीं है।’ योगगुरु के ट्वीट पर कई यूजर्स ने तीखी प्रतिक्रियाएं दी हैं। विशांत कुमार लिखते हैं, ‘जेल जाने का अगला नंबर तुम्हारा ही है आदरणीय रामदेव जी।’ विद्यानंद लिखते हैं, ‘भांग पी लिए हो क्या?’ रवि कुमार लिखते हैं, ‘पहले देश राग, अब व्यापार में मस्त।’ हिमांशू मालवीय लिखते हैं, ‘जय बाबा रामदेव…हम अखंड भारत का सपना देखते हैं।’

प्रशांत वीर सिंह लिखते हैं, ‘योग कराते-कराते आप भी तो स्वतंत्रता सेनानी बनकर देश को आर्थिक आजादी दिलाने लगे। ऐसे में खुद को योग ऋषि कहना पाखंड नहीं है?’ रोहित सिंह चौहान लिखते हैं, ‘बाबा ने अपनी मानसिकता बना रखी है कि वो चाहे बलात्कार ही क्यों ना कर दें। उनके समर्थक उन्हें बचा लेंगे। लेकिन देश की न्यायपालिका अब जाग चुकी है।’ जय हिंद लिखते हैं जिन बाबाओं के साथ राम जुड़ा था, ‘आसाराम, रामपाल, राम रहीम सब जेल में हैं। आप बचकर रहिए।’ वहीं संजय लिखते हैं, ‘जीप में बांधकर राम रहीम को हिंसा वाले इलाकों में घुमा दो, पत्थरबाजी-हिंसा रुक जाएगी।’

SI News Today

Leave a Reply