Wednesday, July 24, 2024
featuredदेश

राम रहीम का भांडाफोड़ करने पर मार दिए गए वाले पत्रकार को मिलेगा न्‍याय?

SI News Today

सीबीआई की अदालत द्वारा डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को दोषी करार दिए जाने से सिरसा के दिवंगत पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के परिवार के लिए ‘‘उम्मीद की किरण’’ जगी है। करीब 15 वर्ष पहले डेरा प्रमुख के खिलाफ बलात्कार के कथित मामलों को उजागर करने के लिए उनकी हत्या कर दी गई थी। दिवंगत पत्रकार के बेटे अंशुल ने फैसले का स्वागत किया और कहा कि अब उन्हें भी न्याय मिलने की उम्मीद जगी है। उन्होंने कहा, ‘‘सीबीआई न्यायाधीश ने दबाव में नहीं आते हुए फैसला देकर स्पष्ट संदेश दिया है कि फर्जी साधु नहीं बच सकता। आम आदमी का न्यायपालिका में विश्वास जगा है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मेरे पिता का मामला भी वही न्यायाधीश देख रहे हैं। सुनवाई 16 सितम्बर को होने वाली है।’’ छत्रपति ने सिरसा के डेरा मुख्यालय में ‘साध्वियों’ के यौन उत्पीड़न का भंडाफोड़ किया था और 24 अक्तूबर 2002 को नजदीक से उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पत्रकार के 36 वर्षीय बेटे ने उन दो शिष्याओं की प्रशंसा की जिन्होंने ‘‘काफी धमकियां’’ मिलने के बावजूद डेरा प्रमुख के खिलाफ गवाही पर कायम रहीं। छत्रपति स्थानीय सांध्य दैनिक ‘पूरा सच’ चलाते थे। सिरसा के डेरा मुख्यालय में राम रहीम द्वारा महिलाओं के यौन उत्पीड़न को लेकर अज्ञात व्यक्ति का खत छापने के कुछ महीने बाद उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

हरियाणा में डेरा प्रमुख राम रहीम को दुष्कर्म मामले में दोषी ठहराने के बाद हुई हिंसा में 36 लोगों की मौत के बाद शनिवार को एक असहज शांति छाई रही। एक तरफ सेना जहां डेरा प्रमुख के मुख्यालय को खाली करवाने में जुटी रही। वहीं, स्थिति से निपटने में नाकामी को लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को हटाने की चारों तरफ से जोरदार मांग की गई। हिसार शहर के डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय को सेना की कम से कम 8 टुकड़ियों ने घेर लिया है, जहां हजारों श्रद्धालु छिपे हुए हैं। सेना की 33 डिवीजन के कमांडिंग अधिकारी मेजर जनरल राजपाल पुनिया ने शनिवार को सिरसा का दौरा करने के बाद मीडिया को बताया कि सेना की डेरा परिसर में तुरंत घुसने की कोई योजना नहीं है।

उन्होंने बताया कि डेरा प्रबंधन से बातचीत कर परिसर को शांतिपूर्वक खाली कराने की कोशिश हो रही है। 50 वर्षीय डेरा प्रमुख को शुक्रवार को 2002 के दुष्कर्म मामले में दोषी करार दिया गया। उसके बाद उसे हिरासत में रोहतक जेल में रखा गया है। एक पुलिस सूत्र ने आईएएनएस को बताया, “विशेष हेलीकॉप्टर के इंतजाम से लेकर पुलिस अधिकारियों वाली सुविधा देने तक सरकार बदनाम डेरा प्रमुख का हर तरीके से मदद कर रही है।”

हरियाणा और पंजाब में कई स्थानों पर सेना गश्त लगा रही है, क्योंकि शुक्रवार को हुई हिंसा में करीब 250 अनुयायी घायल हुए हैं। शनिवार को भी पंजाब के मालवा इलाके और पंचकूला और सिरसा शहरों में सेना की गश्त जारी रही। दोनों राज्यों के कई जिलों में कर्फ्यू जारी रहा।

राज्य के मुख्य सचिव डी. एस. धेसी ने यहां संवाददाताओं को बताया कि पंचकूला की एक अदालत में अपराधी सिद्ध होने के बाद धर्मगुरु को हिरासत में लेने के दौरान एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी से की गई बदसलूकी मामले में दो एफआईआर दर्ज की गई है।

उन्होंने कहा कि दो वाहनों से एक एके-47, एक माउजर, पांच पिस्तौल और दो राइफलें जब्त की गई हैं जो डेरा प्रमुख के सिरसा से पंचकूला की अदालत तक आए काफिले में शामिल थी। पुलिस महानिदेशक बी. एस. संधू के बाद धेसी ने कहा कि पंचकूला समेत राज्य के किसी भी हिस्से में शनिवार को किसी हिंसा की घटना की सूचना नहीं है।

SI News Today

Leave a Reply