Sunday, April 21, 2024
featuredस्पेशल स्टोरी

महापुराण में महादेव को खुश करने के बताए गए हैं ये उपाय

SI News Today

शास्त्रों में 18 महापुराणों के बारे में बताया गया है। सभी महापुराणों में शिव महापुराण को सर्वोपरि बताया गया है। शिवमहापुराण में सभी महापुराणों के सार की जानकारी दी गई है। कहा जाता है कि इस महापुराण का पाठ करने से सभी पापों का अंत हो जाता है। शिव महापुराण में कई ऐसे उपायों के बारे में बताया गया है, जिन्हें करने से व्यक्ति कभी गरीब नहीं होता। कहा जाता है कि अगर शिव महापुराण के इन उपायों को पूरी आस्था और विश्वास के किया जाए तो भगवान शिवजी खुश होते हैं। आज हम आपके लिए लाए हैं, इन सब उपायों के बारे में खास जानकारी-

शिव महापुराण में बताया गया है कि जो व्यक्ति अपने हाथों से बेलपत्र तोड़कर शिवलिंग पर अर्पित करता है, उसे पूर्वजन्मों के पापों से मुक्ति मिलती है। भगवान शिवजी जातक के पूर्व जन्म के पापों को माफ कर देते हैं। शिव महापुराण में बेल के पेड़ के बारे में कहा जाता है कि जो लोग कुमकुम, चंदना, दीप और फूल से पूजा करते हैं, उन पर भगवान शिवजी की कृपा होती है। लगातार ऐसा करने से शिवलोक में जगह मिलती है। ऐसे लोगों के जीवन में कोई दुख नहीं आता है।

शिव महापुराण में लिखा गया है कि जो लोग बेल के पेड़ के नीचे भोजन करवाते हैं उन्हें करोड़ों गुणा पुण्य मिलता है। बेल के पेड़ के नीचे खीर और घी से बनी चीजों को खिलाने से व्यक्ति को कभी भी गरीबी का सामना नहीं करना पड़ता।

कहा जाता है कि बेल वृक्ष के नीचे रोज नियमित रूप से दीप जलाने से व्यक्ति को ज्ञान की प्राप्ति होती है। इतना ही नहीं मृत्यु के बाद व्यक्ति भगवान शिव में लीन हो जाता है। इसके अलावा जो व्यक्ति बेल के वृक्ष के नीचे स्नान करता है उसे संपूर्ण तीर्थों में स्नान का फल मिलता है। माना जाता है कि सभी तीर्थ स्थालों का वास बेल के मूल भाग में होता है।

ज्योतिषियों की माने तो शिव महापुराण से भगवान शिव जी के बहुत नजदीक जाया जा सकता है। शिव महापुराण का पाठ करने वाले व्यक्ति के जीवन में कभी कोई दुख नहीं होता है।

SI News Today

Leave a Reply