Tuesday, February 27, 2024
featuredदेशबिहार

नीतीश कुमार और नरेन्द्र मोदी का गठबंधन हो सकता है, इन पांच मुद्दों पर दोनों मिलते है

SI News Today

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव पिछले एक महीने से लगातार सुर्खियों में बने हुए हैं। भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी उन पर और उनके मंत्री बेटों पर एक के बाद घोटाले का आरोप लगाते रहे हैं। आज (8 मई को) सुप्रीम कोर्ट ने भी झटका देते हुए कहा है कि चारा घोटाले के हरेक मामले में अब लालू यादव को ट्रायल का सामना करना पड़ेगा। इसके बाद बिहार की सियासत गर्म हो गई है। भाजपा ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर डोरे डालने शुरू कर दिए हैं। भाजपा चाहती है कि नीतीश कुमार महागठबंधन तोड़कर भाजपा के साथ गठबंधन सरकार बनाएं। बता दें कि नीतीश कुमार पहले भी भाजपा के साथ करीब आठ साल तक (2005 से 2013 तक) बिहार में गठबंधन सरकार चला चुके हैं। इसके अलावा केंद्र की वाजपेयी सरकार में भी जेडीयू सहयोगी रह चुकी है। जेडीयू 18 वर्षों तक एनडीए गठबंधन में शामिल रही है लेकिन साल 2013 में नरेन्द्र मोदी को पीएम पद का उम्मीदवार बनाए जाने के बाद नीतीश कुमार ने एनडीए से अपना नाता तोड़ लिया था। अब जब बिहार में एक बार फिर लालू यादव और उनकी पार्टी पर सरकार सही तरीके से नहीं चलने देने के आरोप लग रहे हैं तब सुशील कुमार मोदी ने कहा कि अगर नीतीश चाहते हैं तो लालू से गठबंधन तोड़ दें। हम साथ देने को तैयार हैं। 243 सदस्यीय बिहार विधान सभा में गठबंधन में लालू की पार्टी राजद के 80, जेडीयू के 71 और कांग्रेस के 27 विधायक हैं।

वैसे रह-रहकर नीतीश कुमार के एनडीए में शामिल होने की खबरें आती रही हैं। नवंबर में जब देश में नोटबंदी लागू हुई और नीतीश कुमार ने उसका समर्थन किया तब कहा जाने लगा कि नीतीश लालू का साथ छोड़कर फिर से भाजपा के साथ जा सकते हैं। ये पांच ऐसे मुद्दे हैं जिनपर पीएम नरेंद्र मोदी (भाजपा) और नीतीश की सोच में समानता है। इसी वजह से उनके करीब आने की संभावना बन सकती है।

नोटबंदी: पीएम नरेंद्र मोदी ने जब पिछले साल 8 नवंबर को रात 8 बजे नोटबंदी लागू की तो पूरे विपक्ष ने उसकी खूब आलोचना की। लोगों को करीब चार महीने तक परेशानियों का सामना करना पड़ा। लोगों की लंबी-लंबी कतारें बैंकों के सामने लगी रहीं। औद्योगिक उत्पादन में गिरावट की आशंका भी गहराने लगी। इसी बीच नीतीश कुमार ने नोटबंदी की तारीफ की और कहा कि इससे कालेधन पर लगाम लगाया जा सकेगा। यह पहला मौका था जब नीतीश कुमार ने एनडीएस अलग होने के बाद पीएम मोदी के काम की तारीफ की थी।

शराबबंदी: नीतीश कुमार ने पिछले साल अप्रैल से राज्य में पूर्ण शराबबंदी लागू की। इसके लिए उन्होंने कड़े कानून भी बनाए। लोगों में शराबबंदी को लेकर जागरूकता हो इसके लिए दुनिया की सबसे लंबी मानव श्रृंखला बनवाई गई। जब पीएम मोदी सिखों के दसवें गुरू गुरुगोविंद सिंह की 350वीं जयंती को मौके पर आयोजित प्रकाश पर्व में शामिल होने पटना पहुंचे तो उन्होंने नीतीश कुमार के शराबबंदी अभियान की जमकर तारीफ की। नीतीश ने भी मोदी के कार्यकाल में गुजरात में लागू शराबबंदी की सराहना की।

SI News Today

Leave a Reply