Friday, April 19, 2024
featuredउत्तर प्रदेशकानपुर

आइपीएल मैच के दौरान कानपुर के होटल लैंडमार्क में पकड़े गए सट्टेबाज

SI News Today

कानपुर:  तमाम जांच के बाद भी सट्टेबाजी तथा मैच फिक्सिंग को लेकर आइपीएल अभी भी संदेह के घेरे में है। कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में कल आइपीएल में दिल्ली डेयरडेविल्स तथा मेजबान गुजरात लायंस के मैच के दौरान लैंडमार्क होटल से सटोरियों को पकड़ा गया। इसी लैंडमार्क होटल में टीमें रुकी हैं।

कानपुर में सट्टेबाजी का सनसनीखेज मामला सामने आया है। कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में गुजरात लायंस और दिल्ली डेयरडेविल्स के बीच चल रहे मैच का सट्टा बुकी उसी लैंडमार्क होटल से लगा रहे थे, जहां दोनों टीमों के खिलाड़ी ठहरे हुए थे। देर रात हुई औचक छापामार कार्रवाई में मुंबई के मास्टर माइंड रमेश शाह सहित तीन पकड़े गए हैं।

ग्रीनपार्क स्टेडियम में कल गुजरात लायंस और दिल्ली डेयरडेविल्स के बीच मैच था। दोनों टीमें होटल लैंडमार्क में रुकी थीं। बीसीसीआइ एंटी करप्शन यूनिट 3 दिन से इन पर नजर रख रही थी। वह इन्हें रंगे हाथ पकड़ना चाहती थी। इस कारण उसने यूपी पुलिस को भी बता दिया था। जैसे ही रुपयों की डिलीवरी हुई इन्हें पकड़ लिया गया। बीसीसीआइ अभी किसी खिलाड़ी के इसमें शामिल होने से इंकार कर रही है।

क्राइम ब्रांच और थाना पुलिस के साथ देर रात छापा मारा गया। होटल के 17वीं मंजिल पर कमरा नंबर 1733 से दो लोग दबोच लिए गए। इनमें मुंबई के ठाणे निवासी रमेश शाह से तीन मोबाइल, 40 लाख रुपये नकद और डायरी मिली है। यह मूलत: गुजरात का रहने वाला है।

वहीं, इसके साथ पकड़े गए कानपुर देहात के पुखरायां निवासी विकास चौहान से 40 हजार रुपये और दो मोबाइल मिले हैं। तीसरा पकड़ा गया आरोपी चुन्नीगंज निवासी रमेश है। मूलत: बिहार का रमेश ग्रीनपार्क स्टेडियम के मैदान में मजदूरी का काम करता है। बुकी रमेश शाह को वह पिच की जानकारी देता था। पुलिस के मुताबिक, शाह का देश के हर स्टेडियम में नेटवर्क बताया जा रहा है, जहां से उसे पिच का मिजाज बताया जाता है।

उसी आधार पर वह सट्टा लगाता है। पुलिस ने कमरा, कॉमन हॉल व सीसीटीवी कंट्रोल रूम सील कर जांच-पड़ताल शुरू कर दी है।

SI News Today

Leave a Reply