Saturday, April 20, 2024
featured

फिक्‍स था चैम्पियंस ट्रॉफी 2017 का फाइनल?

SI News Today

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने भारत-पाकिस्‍तान के बीच खेला गया चैम्पियंस ट्रॉफी 2017 का फाइनल मुकाबला ‘फिक्‍स’ होने की आशंका जताई है। सामाजिक न्‍याय राज्‍य मंत्री ने इस मैच के ‘फिक्‍स’ होने या न होने की जांच कराने की मांग उठाई है। पाकिस्‍तान ने चिर-प्रतिद्वंदी भारत को फाइनल में 180 रनों से मात देकर पहली बार चैम्पियंस ट्रॉफी का खिताब अपने नाम किया था। अठावले ने शुक्रवार को कहा, ”जिस तरह भारत चैम्पियंस ट्रॉफी फाइनल में पाकिस्‍तान से हारा। भारत ने पहले (लीग मैच) पाकिस्‍तान को हराया था। आखिर कैसे इतनी मजबूत टीम अपने चिर-प्रतिद्वंदी पाकिस्‍तान के खिलाफ फाइनल में 180 रनों से हार सकता है? इस बात की जांच होनी चाहिए कि मैच फिक्‍स था या नहीं।”

भारत और पाकिस्तान के बीच हुए फाइनल मुकाबले में भारत ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया था। पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 4 विकेट खोकर 338 रन बनाए। मुकाबले में भारत को 180 रनों से करारी शिकस्त मिली। भारत की पानी महज 158 रनों पर ही सिमट गई। भारत की शुरुआत बेहद खराब रही और टीम इंडिया की आधी टीम महज 54 रन पर ही पवेलियन लौट गई। वहीं भारत की ओर से सबसे अधिक हार्दिक पांड्या ने 76 रन बनाए। वहीं गेंदबाजी में रविचंद्रन अश्विन बेहद महंगे गेंदबाज साबित हुए। उन्होंने बिना कोई सफलता हासिल किए 70 रन दिए।

भारतीय गेंदबाजों को फखर जमां ने पूरी पारी में दहशत में रखा। इस बल्लेबाज ने अपने चौथे ही एकदिवसीय मैच में शतक जड़ा। फखर जमां ने 106 गेंदों में 3 छक्के और 12 चौकों की मदद से 114 रन बनाए। वहीं भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली भी कोई खास कमाल नहीं दिखा पाए। कोहली 9 गेंदो में महज 5 ही रन बना कर वापिस पवैलियन लौट गए। ऐसे ही कैप्टन कूल के नाम से मशहूर टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी भी 16 गेंदो में महज 4 ही रन बना पाए।

मैच के बाद कहा, “यह खिलाड़ियों की बहुत बड़ी उपलब्धि है और उन्हें पूरा श्रेय जाता है। पाकिस्तान क्रिकेट में इस उपलब्धि को सभी लोग आज या कल नहीं बल्कि लंबे समय तक याद रखेंगे। हम यहां आठवें नंबर की टीम के रूप में आए थे और हमने टूर्नामेंट जीता। उम्मीद करते हैं कि अब सभी देश पाकिस्तान में आकर क्रिकेट खेलेंगे।”

SI News Today

Leave a Reply