Saturday, April 20, 2024
featured

17 साल बाद कैसी है केबीसी के पहले करोड़पति की जिंदगी

SI News Today

सोनी चैनल पर प्रसारित होने वाले रिएलिटी शो कौन बनेगा करोड़पति ने कई लोगों की जिंदगी बदली है। साल 2000 में जब यह शो शुरु हुआ था तब इस शो के पहले करोड़पति बने थे मुंबई के रहने वाले हर्षवर्धन नवाथे। हर्षवर्धन उस समय सिर्फ 27 साल के थे और उनकी इच्छा भारतीय प्रशासनिक सेवा में जाने की थी। नवाथे के पिता सीबीआई में थे इसलिए वह बचपन से ही पुलिस बनने का सपना देखते थे, लेकिन करोड़पति बनने के बाद उनकी जिंदगी अचानक एकदम से बदल गई। केबीसी जीतने के बाद नवाथे रातोरात स्टार बन गए। इतनी प्रसिद्धि मिली की उस समय हर कोई उन्हें अपनी पार्टियों में बुलाने लगा था। बॉलीवुड अभिनेता जॉन अब्राहम से लेकर क्रिकेटर सलिल अंकोला तक उनके अच्छे दोस्त बन गए।

इस बीच हर्षवर्धन पढ़ाई से दूर हो गए और सिविल सर्विस की परीक्षा देने की उनकी उम्र निकल गई। इस तरह से उनका यह बचपन का सपना टूट गया। बीएससी ग्रेजुएट हर्षवर्धन ने सिविल सर्विसेज का सपना छोड़ एमबीए करने की ओर ध्यान लगाया। पुणे के सिंबॉयसिस से पढ़ाई के दौरान भी शोहरत ने उनका पीछा नहीं छोड़ा जिस वजह से उन्होंने पढ़ाई बीच में ही छोड़कर यूके के नेपियर यूनीवर्सिटी में एमबीए में दाखिला ले लिया।

केबीसी के पहले विजेता बनने पर हर्षवर्धन को अमिताभ बच्चन ने एक करोड़ रुपए का चेक थमाया था। इन पैसों को खर्च करने के बारे में बताते हुए हर्षवर्धन ने कहा कि मैनें सारे पैसे बैंक में जमा करा दिए थे जिस पर टैक्स भी लगा था। 30 लाख रुपए का टैक्स भरने के बाद उन्होंने तकरीबन 6 लाख रुपए में मारुति एस्टीम वीएक्स खरीदा। कुछ पैसे उन्होंने एमबीए की फीस भरने में खर्च किए। फिर जब उन्होंने यूके में पढ़ाई की तो वहां भी फीस दिया।

केबीसी जीतने के दिनों की यादों को शेयर करते हुए हर्षवर्धन ने कहा कि जीतने के बाद मुझे लगभग 10 दिनों तक होटल एक कमरे में पहचान बदलकर रहने को मजबूर होना पड़ा। प्रसारण से पहले शूटिंग पूरी हो जाने के कारण मुझे 10 दिनों तक दुनिया की नजरों से छिपाकर रखा गया था ताकि प्रसारण से पहले रिजल्ट का खुलासा न होने पाए। नवाथे फिलहाल महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी में सीएसआर एंड एथिक्स डिपार्टमेंट में हेड हैं।

SI News Today

Leave a Reply