Could create table version :No database selected गोण्डा जनपद में अवैध छज्जा निर्माण का विरोध करने पर अधिवक्ता से अभद्रता कर मोबाइल छीन ले गए गोण्डा नगर कोतवाल । - SI News Today
ताज़ा खबर:-

गोण्डा जनपद में अवैध छज्जा निर्माण का विरोध करने पर अधिवक्ता से अभद्रता कर मोबाइल छीन ले गए गोण्डा नगर कोतवाल ।

गोण्डा जनपद में अवैध छज्जा निर्माण का विरोध करने पर अधिवक्ता से अभद्रता कर मोबाइल छीन ले गए गोण्डा नगर कोतवाल ।

गोण्डा जनपद में अवैध छज्जा निर्माण का विरोध करने पर अधिवक्ता से अभद्रता कर मोबाइल छीन ले गए गोण्डा नगर कोतवाल ।

Gonda Nagar Kotwal was caught snatching the mobile after protesting against the construction of illegal balcony in Gonda district.

उत्तर प्रदेश के गोण्डा जनपद के इमलिया गुरुदयाल मोहल्ले में देर शाम एक अनोखा मामला संज्ञान में आया है, जिसमे लोगों के अधिकार के रक्षा के लिए कार्यरत पुलिस भू- माफियाओं के साथ डटकर अवैध निर्माण को बखूबी अंजाम दे रही थी। इस निर्माण को रोकने के लिए समस्त मोहल्ला वासियों द्वारा भू- माफियाओं का विरोध किया जा रहा था तभी मौके पर नगर कोतवाल अपने हमराहियों के साथ पहुँच कर मोहल्ला वासियों को धमकी देने लगे, जब मोहल्ले के निवासी ने अवैध निर्माण के विरुद्ध अपर जिलाधिकारी राकेश सिंह का आदेश दिखाया जिसे पढकर कोतवाल साहब गुस्से से लाल पिला होकर अपर जिलाधिकारी के लिए अपशब्द बोलने लगे, जिसकी वीडियो रिकॉर्डिंग वहाँ पर मौजूद एक अधिवक्ता द्वारा की जा रही थी। अपनी रिकॉर्डिंग होता देख नगर कोतवाल साहब अधिवक्ता पर टूट पड़े व जबरन उसके हाथ से उसका मोबाइल छीन ले गए व धमकी भरे लहजे में अधिवक्ता व मोहल्लावासियों को देख लेने की नसीहत देते हुए चले गए। कोतवाली जाकर अधिवक्ता ने जब अपना मोबाइल छीने जाने का कारण पूछा तब नगर कोतवाल ने वीडियो डिलीट करने को कहा, अधिवक्ता द्वारा वीडियो डिलीट करने से मना करने पर नगर कोतवाल ने मोबाइल को नष्ट करने की बात कही व बुरा अंजाम भुगतने की धमकी भी दी। खबर लिखे जाने तक नगर कोतवाल ने अधिवक्ता का मोबाइल वापस नहीं किया है।

आपको बता दें अभी हाल ही में देहात कोतवाली के एक सब-इंस्पेक्टर ने भाजपा जिलाध्यक्ष को कोतवाली में बेइज्जत किया था, फिर आज अपर जिलाधिकारी के लिए नगर कोतवाल द्वारा अपशब्द व सरेआम मोबाईल छीनने की घटना देख यह प्रतीत होता है कि उत्तर प्रदेश पुलिस जो गाड़ी पलटने में माहिर हो चली है, वह खुद भी नैतिकता की पटरी से उतर चुकी है अब न तो उसको शासन का डर है न ही न ही मानवाधिकार की चिंता।

leave a comment

Create Account



Log In Your Account



%d bloggers like this: