Saturday, May 25, 2024
featuredदेश

जीएसटी लॉन्च: अब से थोड़ी देर में शुरू होगा संसद का विशेष कार्यक्रम

SI News Today

जीएसटी यानी गुड्स एंड सर्विस टैक्स (वस्तु एवं सेवा कर) आज (30 जून) की मध्यरात्रि से देश भर में लागू होने जा रही है। नरेंद्र मोदी सरकार ने इस मौके पर संसद के सेंट्रल हॉल में एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया है। कार्यक्रम की शुरुआत अब से थोड़ी ही देर में होने जा रही है। इस समारोह में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस जे एस खेहर, वित्त मंत्री अरुण जेटली के अलावा तमाम केंद्रीय मंत्री मौजूद रहेंगे। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के साथ-साथ कई राज्यों के मुख्यमंत्री भी इस ऐतिहासिक क्षण के गवाह बनेंगे। हालांकि, कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों ने इस समारोह का बहिष्कार किया है। सरकार ने अमिताभ बच्चन, लता मंगेशकर, रतन टाटा जैसी हस्तियों को भी कार्यक्रम के लिए आमंत्रित किया है।

7.00PM: इसबीच, आसनसोल से बीजेपी सांसद और केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने गाना गा कर बताया है कि जीएसटी के चक्कर में उन्हें कितना पढ़ना पड़ रहा है। गायक से सांसद बने बाबुल सुप्रियो ने बारिश के बीच चलती कार में किशोर कुमार का भीगी-भीगी रातों गाना गा कर जीएसटी के स्ट्रेस को कम करने की कोशिश की। (देखिए, जीएसटी को लेकर केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो और सिंगर शान की जुगलबंदी)

6.50PM: #GSTTamasha हैशटैग के साथ इस वीडियो को पोस्ट करते हुए कांग्रेस के ट्विटर अकाउंट से लिखा गया कि मोदी जी कितनी जल्दी अपने ही शब्द भूल जाते हैं, वह जीएसटी को बिना इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण करे क्यों लागू कर रहे हैं। (कांग्रेस ने दिखाया पीएम नरेंद्र मोदी का ‘एंटी जीएसटी’ वीडियो, कहा था- हम इसे लागू ही नहीं कर सकते, सिंपल सी बात है)

6.40PM: दावा किया जा रहा है कि जीएसटी देश में कर सुधार के क्षेत्र में सबसे बड़ा कदम है। जीएसटी काउंसिल ने दूध, फल-सब्जी, पेट्रोल, बच्चों की प्रिंटेड बुक्स, पूजा सामग्री जैसी 80 वस्तुओं को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा है। यानी इन पर कोई टैक्स नहीं लेगा। इनके अलावा स्वास्थ्य और शिक्षा सेवा क्षेत्र को भी जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है। (दूध, सब्जी-फल, पेट्रोल समेत 80 सामान जीएसटी से मुक्त: जानिए, कौन-कौन सी वस्तुओं पर नहीं लगेगा टैक्स)

6.30PM: केन्द्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने जीएसटी को आजादी के बाद का सबसे बड़ा आर्थिक सुधार बताया है लेकिन लोगों के दिमाग में जीएसटी को लेकर कन्फ्यूजन ही कन्फ्यूजन है। किसी को जीएसटी का फुलफॉर्म नहीं पता, तो कई लोगों को इस टैक्स के नियमों की जानकारी नहीं है। उहापोह की स्थित में सोशल मीडिया पर जीएसटी को लेकर मजाक उड़ाया जा रहा है। (GST Full form: गौ सुरक्षा टैक्स, ग्रेट स्टूपिड टैक्स…जानिए जीएसटी का क्या क्या मतलब निकाल रहे लोग)

6.20PM: भारत में आम नागरिकों पर दो तरह के टैक्स लगते हैं- प्रत्यक्ष कर और अप्रत्यक्ष कर। आयकर और कॉर्पोरेट टैक्स इत्यादि प्रत्यक्ष कर हैं। बिक्री कर और सेवा कर इत्यादि अप्रत्यक्ष कर हैं। संविधान में 122वें संशोधन विधेयक के जरिए देश में लगने वाले सभी अप्रत्यक्ष करों की जगह एक जुलाई 2017 से केवल एक टैक्स “वस्तु एवं सेवा कर” लगाया जाएगा। दुनिया के 150 से अधिक देशों में ऐसी ही कर व्यवस्था लागू है।

SI News Today

Leave a Reply