Saturday, May 25, 2024
featuredदेश

मानसरोवर यात्रा के लिए 4,000 से अधिक आवेदन: सुषमा स्वराज

SI News Today

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने शुक्रवार को कहा कि कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए 4,000 आवेदन आए हैं, जो पिछले साल की तुलना में 1,400 अधिक हैं। आवेदनों की संख्या बढ़ने के कारण इस साल नाथुला र्दे से तीर्थयात्रियों के एक अतिरिक्त जत्थे को भेजा जाएगा और यात्रा के लिए 49 और सीटें बची हुई हैं।सुषमा स्वराज ने कहा, “बुजुर्ग तीर्थयात्रियों की यात्रा में सहूलियत प्रदान करने के लिए एक ही जत्थे में परिवार के दो सदस्यों की जगह अब चार सदस्यों को यात्रा करने की मंजूरी होगी। तीर्थयात्रियों का चयन कंप्यूटरीकृत ड्रॉ से करने लिए एक कार्यक्रम के दौरान मंत्री ने ये बातें कहीं। मंत्री ने कहा, “हमें नहीं लगता कि इस साल कोई सीट बची रह जाएगी। इससे पहले, सीटें खाली रह जाती थीं। तीर्थयात्रियों को मिलने वाली सहायता 50,000 रुपये से बढ़ाकर 1,00,000 रुपये करने के लिए मंत्री ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का विशेष शुक्रिया अदा किया। उन्होंने कहा, “सहायता बढ़ने की वजह से उत्तर प्रदेश के आवेदकों की संख्या में इजाफा हुआ। कैलाश मानसरोवर यात्रा का आयोजन चीन सरकार के सहयोग से विदेश मंत्रालय करता है, जो दो मार्गो से होती है।

बता दें कि इससे पहले सीएम बनने के बाद जब पहली बार मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने गोरखपुर पहुंचकर बयान दिया था कि उनकी सरकार जाति, मजहब और लिंग के नाम पर किसी तरह का भेदभाव नहीं करेगी। राज्य सरकार सबका विकास करेगी और किसी का तुष्टिकरण नहीं होगा।  इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा था, ‘एक बड़ी योजना के साथ हम कार्य प्रारंभ करने वाले हैं। उत्तर प्रदेश का कोई व्यक्ति चाहे वह किसी तबके या क्षेत्र का हो, कभी भी अपने को उपेक्षित महसूस नहीं करेगा।’ उन्होंने कहा कि सरकार निरंतर कार्य कर रही है। कुछ निर्णय लिये लेकिन हो सकता है कि तमाम लोग तमाम प्रकार की बातें कर रहे हों। ‘सबको बताना चाहता हूं कि भाजपा के लोक कल्याण संकल्प पत्र में जो बातें कही हैं, हम अक्षरश: उनका अनुपालन करेंगे। सरकार उत्तर प्रदेश को देश के विकसित से विकसित प्रदेश के रूप में स्थापित करने में सफल होगी।’

आदित्यनाथ ने कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाने वाले राज्य के तीर्थयात्रियों को एक लाख रूपये अनुदान देने का ऐलान किया था। समारोह में कहा, ‘एक और खुशखबरी देना चाहूंगा। जो लोग कैलाश मानसरोवर की यात्रा करना चाहते हैं, उत्तर प्रदेश सरकार ने निर्णय किया है कि अगर वे स्वस्थ हैं तो हम उन्हें एक लाख रूपये का अनुदान देंगे। साथ ही उत्तर प्रदेश में हम लोग लखनऊ गाजियाबाद या नोएडा में किसी एक स्थान पर कैलाश मानसरोवर भवन का निर्माण करेंगे जहां से श्रद्धालु जाकर अपनी यात्रा को आगे बढा सकें।’ सरकारी प्रवक्ता ने लखनऊ में बताया कि राज्य सरकार द्वारा दिये जाने वाला यह आर्थिक अनुदान अभी तक 50 हजार रुपये था, जिसे मुख्यमंत्री ने बढ़ाकर एक लाख रुपए करने का निर्णय लिया है।

SI News Today

Leave a Reply