Saturday, May 25, 2024
featuredदेश

सिंधु जल संधि को अवैध एवं असंवैधानिक घोषित करने की मांग वाली एक जनहित याचिका आज खारिज

SI News Today

नई दिल्ली
उच्चतम न्यायालय ने भारत और पाकिस्तान के बीच सिंधु जल संधि को अवैध एवं असंवैधानिक घोषित करने की मांग वाली एक जनहित याचिका आज खारिज कर दी। प्रधान न्यायाधीश जगदीश सिंह खेहर की अध्यक्षता वाली पीठ ने वकील मनोहर लाल शर्मा की निजी तौर पर दायर जनहित याचिका खारिज करते हुए कहा,‘यह संधि वर्ष 1960 में हुई थी और इसने करीब आधी सदी से अधिक समय से अच्छा प्रदर्शन किया है।’ पीठ में न्यायमूर्ति धनंजय वाई चंद्रचूड और न्यायमूर्ति संजय किशन कौल भी शामिल थे। बहरहाल पीठ ने यह स्पष्ट किया कि जनहित याचिका खारिज करने का आदेश किसी का भी अहित नहीं करता है।

न्यायालय ने स्पष्टीकरण उस समय दिया जब शर्मा ने कहा कि यदि सरकार भारत पाक जल समझौते की समीक्षा करना चाहे तो जनहित याचिका खारिज करने का आदेश उसके मार्ग में किसी प्रकार से बाधक नहीं बनना चाहिए। संक्षिप्त सुनवाई के दौरान इसमें यह दलील दी गयी कि सिंधु जल समझौता कोई संधि नहीं है क्योंकि इस पर भारत के राष्ट्रपति के हस्ताक्षर नहीं है। वकील ने कहा,’यह तीन नेताओं के बीच त्रिपक्षीय समझौता था और यह शुरु से वैध नहीं रहा है और इसलिए इस पर कार्रवाई नहीं की जा सकती है।’ न्यायालय ने कहा कि उसने समूची अर्जी पर विचार किया और इससे वह सहमत नहीं है।

पाकिस्तान और पुननिर्माण एवं विकास के लिये अंतरराष्ट्रीय बैंक या विश्व बैंक के बीच 19 सितंबर, 1960 को सिंधु जल समझौत पर हस्ताक्षर हुए थे। इस पर हस्ताक्षर करने वालों में नेहरु के अलावा पाकिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति मोहम्मद अयूब खान और विश्व बैंक के डब्ल्यू ए बी इलिफ शामिल थे। शीर्ष अदालत ने पिछले साल इस याचिका पर शीघ्र सुनवाई करने से यह कहकर इनकार कर दिया था कि मामले में इसकी आवश्यकता नहीं है जबकि न्यायालय ने व्यक्तिगत रुप से जनहित याचिका दायर करने वाले शर्मा को इस मुद्दे को राजनीति से दूर रखने के लिये कहा था।

शर्मा ने अपनी जनहित याचिका में संविधान के अनुच्छेद 77 का हवाला देते हुए कहा था कि इसमें (अनुच्छेद 77 में) सरकार की सभी शासकीय कार्रवाई को राष्ट्रपति के नाम से लिया जाना जरुरी बताया गया है। याचिका में यह कहा गया था कि बहरहाल, सिंधु जल समझौता मामले में वर्ष 1960 में तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु ने हस्ताक्षर किया था और इसमें कहीं नहीं कहा गया है कि उपरोक्त समझौता संधि भारत के राष्ट्रपति के नाम पर हस्ताक्षर किया जा रहा है।

इसमें कहा गया,’विदेश मंत्रालय के दस्तावेजों के अनुसार इसमें कहीं नहीं कहा गया है कि जवाहर लाल नेहरु ने इस समझौते पर भारत के राष्ट्रपति की ओर से हस्ताक्षर किया हैं।’शर्मा ने कहा,‘समझौते के अनुसार 80 प्रतिशत जल पाकिस्तान को जाता है जो भारत के नागरिकों के मौलिक अधिकारों के साथ साथ राष्ट्रीय हित के लिये आर्थिक एवं स्वाभाविक आघात है।’ यह संधि राष्ट्रीय हित के खिलाफ और भारत के नागरिकों के मौलिक अधिकारों का हनन है, जो उनके जीवन एवं आजीविका पर असर डालता है।

SI News Today

Leave a Reply