Saturday, March 2, 2024
featuredदिल्ली

चुनाव आयोग ने दिया लाइव डेमो

SI News Today

नई दिल्ली” केंद्रीय चुनाव आयोग की ओर से ईवीएम और वीवीपेट का लाइव डेमो दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में दिया गया। आयोग द्वारा इस डेमो के जरिए यह साबित करने की कोशिश गई कि ईवीएम से किसी तरह की छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है। पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस, सपा, बसपा और आम आदमी पार्टी समेत कई राजनीतिक पार्टियों ने ईवीएम पर सवाल उठाए थे।

चुनाव आयोग ने इसके साथ ही ईवीएम में गड़बड़ी के आरोप लगा रहे राजनीतिक दलों को खुली चुनौती देने की तैयारी कर ली है और इस डेमो प्रोग्राम के बाद वह ईवीएम को हैक किए जाने की चुनौती की तारीखों की घोषणा भी करेगा।

वीवीपैट के जरिए कराए जाएंगे चुनाव

चुनाव आयोग की तरफ से आयोजित प्रेसवार्ता में मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जौदी ने कहा कि पिछले 67 सालों में चुनाव आयोग ने सफलतापूर्वक चुनाव कराए हैं। हाल ही में 5 राज्यों में चुनाव होने के बाद कुछ शंकाएं सामने आई हैं, चुनाव आयोग को कुछ सुझाव भी मिले हैं। कुछ राजनीतिक पार्टियों ने शिकायतें दर्ज कराई हैं लेकिन उनके साथ प्रामाणिक साक्ष्य उपलब्ध नहीं कराए गए हैं।

मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने कहा कि चुनाव आयोग की तरफ से राजनीतिक पार्टियों से कहा गया है कि भविष्य में होने वाले सभी चुनाव वीवीपैट के साथ कराएं जाएंगे। EVM के साथ वीवीपैट लगाने से वोटरों का विश्वास और मजबूत होगा, उसके बाद सारी शंकाएं समाप्त हो जानी चाहिए। आयोग को राजनीतिक पार्टियों से सुझाव मिला कि वीवीपैट की स्लिप की गिनती करनी चाहिए, चुनाव आयोग इस सुझाव पर अमल पर विचार करेगा। भारत पहला देश होगा जहां 100 फीसदी पेपर ऑडिट ट्रेल इस्तेमाल किया जाएगा

EVM से छेड़छाड़ संभव नहीं

जैदी ने कहा कि चुनाव आयोग स्थानीय निकाय के चुनावों के लिए जिम्मेदार नहीं है, ये चुनाव राज्य चुनाव आयोग या अन्य संवैधानिक निकाय द्वारा कराए जाते हैं, महाराष्ट्र में एक मतदाता को शून्य मत मिलने पर महाराष्ट्र के राज्य चुनाव आयोग ने जांच की तो पता चला कि उसे काफी मत मिले थे, यह एक भ्रान्ति फैलाई गई थी। EVM के बारे में यह भ्रान्ति फैलाई जा रही है कि इसे हैक किया जा सकता है, यह पूरी तरह गलत है। EVM पूर्णरूप से स्वतंत्र तौर पर काम करती हैं, इसे इंटरनेट से कनेक्टेड नहीं किया जाता है इसलिए हैकिंग का कोई चांस नहीं है। फ्रीक्वेंसी रिसीवर भी नहीं होता है इसलिए किसी भी कोड से छेड़छाड़ करने की बात भी गलत है।

‘आप’ ने विधानसभा में किया डेमो

हाल ही में दिल्ली सरकार ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर ईवीएम हैक करने का डेमो देककर चुनाव आयोग को चुनौती दी थी। दिल्ली सरकार के मंत्री सौरभ भारद्वाज की ओर से दावा किया गया कि अगर उन्हें पिछले चुनाव वाली ईवीएम को दे दिया जाएं, तो वो उसका मदर बोर्ड मात्र 90 सेकेंड में बदलकर चुनाव परिणाम को बदल सकते हैं।

चुनाव आयोग ने ईवीएम की विश्वसनीयता पर विपक्षी दलों की शंकाओं के समाधान के लिए 12 मई को सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। बैठक के बाद निर्वाचन आयोग ने घोषणा की थी कि वह विपक्षी पार्टियों की ईवीएम को हैक करके दिखाने की चुनौती को स्वीकार करेगा। बसपा, कांग्रेस, आम पार्टी और तृणमूल कांग्रेस ने सर्वदलीय बैठक के दौरान ईवीएम में धांधली पर चिंता जताई थी।

SI News Today

Leave a Reply