Monday, February 26, 2024
featuredउत्तर प्रदेशलखनऊ

इस लड़की पर ढाई साल की उम्र में फेंका गया तेजाब, जानिए वजह…

SI News Today

लखनऊ: फतेहपुर की रहने वाली जूली की उम्र अब सात साल की हो गई है। ढ़ाई साल की उम्र से एसिड अटैक का दर्द झेल रही इस नाबालिग की तीन सर्जरी हो चुकी है। छांव फाउंडेशन ने अब इसके इलाज का जिम्मा उठाया है। संस्था से जुड़े लोगों का कहना है, अब जूली की पूरी जिम्मेदारी उन पर है।

मनीष को थी जलन
– जूली की मां रानीदेवी की शादी मनीष से हुई थी। रानीदेवी ने बताया, “मनीष को नशे की लत थी। हर रोज शराब पीकर वो उससे लड़ाई-झगड़ा करता था, जिस वजह से उन्होंने उसे तलाक देकर हीरालाल से शादी कर ली ।

– हीरालाल से शादी के बाद से ही मनीष के अंदर ही अंदर जलन होने लगी। 9 जुलाई 2014 को जब जूली, हीरालाल और उसकी मां सो रही थी, तभी बदला लेने के लिए रानीदेवी पर एसिड डालने के लिए आया। धोखे से मनीष ने एसिड हीरालाल और जूली पर डाल दी।

मनीष ने जूली पर फेंका था एसिड
– दोनों पर हुए एसिड अटैक में जूली और उसके पिता हीरालाल बुरी तरीके से झुलस गए। करीब दस दिनों तक हीरालाल और जूली का इलाज अस्पताल में हुआ, लेकिन पैसे की तंगी की वजह से रानीदेवी अपने पति और बच्ची को लेकर घर वापस आ गए। दोनों की सेवा घर पर होती रही।

– छांव फाउंडेशन के रीच आउट डिपार्टमेंट की एसोसिएट वासिनी ने बताया, ” हमारी टीम डेढ़ साल पहले फतेहपुर सर्च करने पहुंची थी, तब हमें वहां जूली के बारे में पता चला। अब जूली के इलाज की ज़िम्मेदारी हमारी है। जूली की तीन सर्जरी हो गई है। अभी और करानी है।

SI News Today

Leave a Reply