Tuesday, May 28, 2024
featuredउत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश में विवादास्पद पोस्टर के बाद कश्मीरी छात्रों की सुरक्षा करने में जुटी पुलिस

SI News Today

नवनिर्माण सेना द्वारा दिल्ली-देहरादून राष्ट्रीय राजमार्ग पर ‘कश्मीरियों उत्तर प्रदेश छोड़ो’ के पोस्टर लगाने के बाद राष्ट्रीय स्तर पर मामला तूल पकड़ता देख गृह मंत्रालय ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को प्रदेश में रहने वाले कश्मीरी छात्रों को कड़ी सुरक्षा देने के निर्देश दिए हैं। इसके बाद मेरठ के डीएम समीर वर्मा व एसएसपी जे रविंद्र गौड़ ने सुभारती विश्वविद्यालय जाकर कश्मीरी छात्रों को सुरक्षा का पूरा भरोसा दिया है। इसके साथ ही जिन किसीकॉलेजों में कश्मीरी छात्र पढ़ रहे हैं, वहां पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। उधर, नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष अमित जानी के खिलाफ थाना परतापुर में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पुलिस की चार टीमें अमित की गिरफ्तारी के लिए लगाई गई है। मेरठ के चार कॉलेजों में 250 के करीब कश्मीरी छात्र मेडिकल व इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे हैं। अधिकांश कश्मीरी छात्र यहां सुभारती विश्वविद्यालय के छात्रावास में रह रहे हैं। इसे देखते हुए डीएम, एसएसपी सुभारती विश्वविद्यालय पहुंचे जहां वह कश्मीरी छात्रों के साथ रू-ब-रू हुए। उस दौरान सभी छात्रों ने अपनी सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े किए। कश्मीरी छात्र इमामुल हक ने अधिकारियों से पूछा कि हमें उत्तर प्रदेश छोड़ने के लिए तीन महीने का वक्त दिया गया है। लेकिन क्या गारंटी है कि वे तीन महीने से पहले कुछ नहीं करेंगे। इस पर डीएम समीर वर्मा ने कहा कि आप निश्चिंत रहे हमने धमकी देने वाले के बारे में पुख्ता जानकारी ले ली है। उसे जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
कश्मीरी छात्र डा. उमर फारूख ने कहा कि उसे प्रशासन पर पूरा भरोसा है लेकिन इस तरह माहौल खराब करने का हक किसी को नहीं होना चाहिए। इस पर डीएम ने कहा कि आपकी बात बिल्कुल सही है। ऐसी घिनौनी हरकत करने वाले शख्स को प्रशासन कड़ी सजा दिलाएगा। संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। आप तनाव न लें और मन लगाकर अपनी पढ़ाई करें। इसके बाद छात्र डॉ उस्मान ने सवाल उठाया कि मेरी व कुछ अन्य छात्रों की गाड़ियों के नंबर जम्मू कश्मीर के हैं। इससे हमें कोई परेशानीतो नहीं होगी। डीएम ने कहा कि आपको घबराने की कोई जरूरत नहीं है। सभी छात्र अपने वाहन कहीं भी लेकर जाएं, कोई कुछ नहीं कहेगा। डीएम और एसएसपी ने कश्मीरी छात्रों को अपने सीयूजी नंबर दिए हैं। ताकि कश्मीरी छात्र कोई भी विवाद हो तो उन्हें सीधे फोन कर सके। जिन चार कॉलेजों में कश्मीरी छात्र पढ़ रहे हैं, वहां एक दरोगा, चार कांस्टेबल के साथ एक क्यूआरटी को भी तैनात किया गया है। छात्रों से कहा गया है कि अगर वह बाहर जाएं तो इसकी जानकारी मौजूद पुलिस बल को दें। अधिकारियों ने कश्मीरी छात्र व कॉलेज प्रशासन के साथ बैठक होने के बाद शासन को रिपोर्ट भेज दी है, जिसमें यहां रहने वाले कश्मीरी छात्रों को पुख्ता सुरक्षा का भरोसा दिया है। उधर नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष की अभी तक गिरफ्तारी नहीं हुई है। पुलिस का कहना है कि उसके दिल्ली में छिपे होने की जानकारी मिली है।

SI News Today

Leave a Reply