Saturday, February 24, 2024
featuredउत्तर प्रदेशलखनऊ

मायावती ने योगी सरकार द्वारा जारी श्वेपपत्र को कमियां छिपाने का हथकंडा बताते हुए लगाया आरोप….

SI News Today

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने योगी सरकार द्वारा जारी श्वेपपत्र को अपनी कमियां छिपाने का हथकंडा बताते हुए आरोप लगाया कि योगी ने उल्टी गंगा बहाने का प्रयास किया है जब कि मुख्यमंत्री को अपने छह माह के शासन काल पर श्वेतपत्र लाना चाहिए था।

बुधवार को जारी किए बयान में मायावती ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ छह माह की कमियां छिपाने के लिए श्वेतपत्र के जरिए पिछली सरकारों को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसा करना उनकी छोटी सोच और सस्ती लोकप्रियता को पाने का द्योतक है। ऐसा कर भाजपा अपनी कमियों पर पर्दा डालने का घिनौना प्रयास कर रही है। ऐसे कारनामों से जनता उनके गुनाहों को माफ करने वाली नहीं है।

मायावती ने कहा कि योगी सरकार छह माह में केंद्र सरकार की तरह जनकल्याण और अन्य सभी मामलों में फिसड्डी रही। भाजपा के पास उपलब्धियां बताने के लिए नहीं है इसलिए विपक्षी दलों और पूर्ववर्ती सरकारों पर ठीकरा फोड़कर लोगों की आंख में धूल झोंकने का काम कर रही है। बसपा प्रमुख ने कहा कि मुख्यमंत्री ने पत्रकारवार्ता में अपनी सरकार के कारनामों को उपलब्धियां बताया, वह दुर्भाग्यपूर्ण है। मुख्यमंत्री योगी को बताना चाहिए था कि प्रदेश की सड़कों को गड्ढ़ामुक्त करने के अभियान का हश्र क्या हुआ? स्कूलों की बदहाली क्यूं बढ़ी है? बिजली आपूर्ति को लेकर किए जा रहें दावों का क्या हुआ? भ्रष्टाचार के नए रिकार्ड क्यों कायम हो रहें है? कानून व्यवस्था ठीक करने के नाम पर इन्काउंटरों का डंका पीटा जा रहा है परंतु अपराधों का ग्राफ कम नहीं हो रहा? महंगाई आसमान छू रही है और लोगों के कारोबार बंद होते जा रहे है। सरकार अपने इन कारनामों को उपलब्धि मान रही है तो जनता के सामने पछतावा करने के अलावा कोई विकल्प नहीं रह जाता है।

SI News Today

Leave a Reply