Saturday, May 25, 2024
featuredउत्तर प्रदेश

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के मौलाना बोले- योग करने में दिक्कत नहीं

SI News Today

मुसलमानों के योग करने को लेकर लंबे समय से बहस चल रही है। कुछ लोगों का मानना है कि यह धर्म का हिस्सा है और कुछ लोग का कहना कि यह सिर्फ एक शारीरिक प्रक्रिया है। इस बीच, सुन्नी समुदाय के मौलवी और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य मौलाना खालिद राशीद फिरंगी महली ने गुरुवार को कहा, “तब तक मुस्लिमों को इंटरनेशनल योगा डे सेलिब्रेशन में भाग लेने में कोई दिक्कत नहीं था, जब तक कि इसमें किसी तरह की पूजा शामिल नहीं थी। न्यूज 18 से बात करते हुए मौलाना ने कहा कि योगा अच्छी चीज है और अभ्यास की जाने वाली प्रक्रिया है। मुसिलमों को केवल योग उत्सव के दौरान होने वाली पूजा से खुद को दूर रखना चाहिए।

इस साल यूपी की राजधानी लखनऊ के रमाबाई अंबेडकर मैदान में योग महोत्सव का आयोजन 21 जून को होना है। इसमें पीएम नरेंद्र मोदी और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ भाग लेंगे। आ रही खबरों के मुताबिक इस बार के इंटरनेशनल योग डे के प्रोग्राम में 55,000 लोगों के साथ 300 मुस्लिम पुरुष और महिलाएं हिस्सा लेंगी। मौलाना से जब इस कार्यक्रम में शामिल होने के बारें में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वह जरुर इस पर विचार करेंगे। उन्होंने कहा कि अगर उन्हें कार्यक्रम में शामिल होने का न्योता मिलेगा तो वह जरुर इस बारे में सोचेंगे।

लखनऊ में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर आयोजित होने वाले योग कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा कर अंतिम रूप देने को कहा गया है। इसी क्रम में गृह मंत्री राजनाथ सिंह और सीएम योगी आदित्यनाथ ने 14 मई को तैयारियों का जायजा लिया। योग दिवस के कार्यक्रम में पीएम मोदी के साथ आम जनमानस के साथ स्टूडेंट्स भी शरीक होंगे। लखनऊ यूनिवर्सिटी और एफिलेएटेड डिग्री कॉलेजों के आठ हजार स्टूडेंट्स पीएम नरेंद्र मोदी के साथ योग करेंगे।

बता दें कि 2014 में प्रधानमंत्री मोदी के आह्वान के बाद संयुक्त राष्ट्र महासभा ने हर साल 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाए जाने की घोषणा की थी। 21 जून 2015 को नई दिल्ली में राजपथ में पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह आयोजित किया गया था, जिसमें कई देशों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया था।

SI News Today

Leave a Reply