Thursday, February 22, 2024
featuredउत्तर प्रदेशलखनऊ

यूपी: टेररिस्ट्स को मुंह तोड़ जवाब देगी UP की स्वाट टीम, जानिए कैसे…

SI News Today

लखनऊ: यूपी पुलिस की एटीएस विंग आतंकवादी घटनाओं से निपटने के लिए जिलों की स्वाट टीम को हाईटेक बना रही है। टीम को स्पेशल कमांडो ट्रेनिंग दे रहे हैं। इसके बाद यह ब्लैक कमांडो यानी स्वाट टीम जिलो में रहकर हर आतंकवादी गतिविधियों पर नजर रखेगी। इसके आलावा किसी भी बड़ी घटना पर ATS के पहुंचने से पहले ही यह टीम स्थिति सम्भाल लेगी। इस टीम को ट्रेनिंग भी ATS के स्पेशल ट्रेनर दे रहे हैं। पहले फेज में दो जोन की चल रही ट्रेनिंग…

– यूपी एटीएस के अमौसी स्थित प्रशिक्षण केंद्र में स्वाट टीम को स्पेशल कमांडो ट्रेनिग दे रहे हैं। इसमें पहले फेज के दो जोन आगरा और वाराणसी के सिलेक्टेड 42 पुलिस कर्मियों शामिल हैं।

– इस टीम में 2 सीओ, 2 एसआई, और 38 कांस्टेबल शामिल हैं। ट्रेनिंग में उन्ही को शामिल किया गया है, जिनका स्वाट टीम, क्राइम ब्रांच या फिर थानों में तैनाती के दौरान अपराध नियंत्रण में सराहनीय योगदान रहा हो।

– ट्रेनिंग में फिजिकल लेवल को भी विशेष महत्व देते हुए चयन किया गया है।

डाइट चार्ट​ फालो करते हैं कमांडो
– ट्रेनिंग ले रहे कमांडो को सुबह नाश्ते में चने, ब्रेड व दूध दिया जा रहा है। इसके बाद इनकी ट्रेनिंग शुरू हो जाती है।

– 11 बजे तक लंच दिया जाता है। जिसमें दाल, चावल, हरी सब्जी, रोटी व सलाद लेते हैं। 1 घंटे का आराम देने के बाद फिर से ट्रेनिंग शुरू होती है।

– शाम 4 बजे इन्हें दलिया खाने को मिलता है। जिसके बाद रात को खाने में इन्हें अपनी पसंद का खाना खाने की छूट होती है।

4 भागों में बटी है कमांडोज की ट्रेनिंग
# ट्रेनिंग का पहला पार्ट है : बेसिक पुलिस टैक्टिस
– इसमें पुलिस के दांव पेंच सिखाए गए। हांलाकि अमूमन सभी पुलिस कर्मियों को भर्ती के बाद यह ट्रेनिंग दी जाती है। लेकिन ATS इन्हें इससे हटकर ट्रेंड कर रहा है।

# ट्रेनिंग का दूसरा पार्ट: स्पेशल पुलिस टैक्टिस
– रण भूमि में स्थिति अनियंत्रित होने की दशा में किस तरह से निबटा जाए इसके बारे में सिखाया गया।

# ट्रेनिंग का तीसरा पार्ट: फायर आर्म टैक्टिस
– इसमें कमांडोज को अत्याधुनिक हथियारों के संचालन के गुण सिखाए गए। एटीएस कमांडों ने आटोमेटिक हथियारों का बेहतर यूज का तरीका सिखाया।

# ट्रेनिंग का चौथा पार्ट है : हार्ड फिजिकल टैक्टिस
– इसके अंतर्गत कमांडोज को फिजिकली ट्रेंड किया गया। जिससे वो बिना हथियार के भी दुश्मनों का मुकाबला कर सकें। इस ट्रेनिंग देने के लिए ATS ने स्पेशल ट्रेनर कमांडोज बुलाए हैं।

पलक झपकते ही काबू में होगा दुश्मन
– ट्रेनर के मुताबिक, ”कमांडोज को दुश्मन से निबटने के लिए हर तरह से ट्रेन किया गया है। अगर आतंकवादियों ने किसी बहुमंजिला बिल्डिंग पर कब्जा कर लिया तो हमारी टीम पलक झपकते ही पहुंचने में सक्षम है।

– इसके साथ ही उनपर क्षण भर में काबू में कर सकेगी, इसके लिए भी ट्रेन किया गया है। हाई टेक्निकल हथियार से लैस किया गया है, जिसमे MP-4 और AK-47 जैसे अत्याधुनिक हथियार शामिल हैं। बम निरोधक से लेकर डायनामाइट तक मौजूद रहेगा।”

क्या कहते हैं आईजी एटीएस ?
– आईजी एटीएस असीम अरुण ने बताया, ”यूपी पुलिस के पहले फेज के 2 जोन की 15 दिन की ट्रेनिग स्पेशल फोर्स एटीएस की निगरानी में चल रही है। इसके बाद दूसरे फेज में शामिल जोन से सिलेक्टेड पुलिसकर्मियों को बुलाकर ट्रेनिंग दी जाएगी।”

SI News Today

Leave a Reply