Saturday, April 20, 2024
featuredलखनऊ

जहर खा लूंगी-ससुराल नहीं जाऊंगी …ऐसा कहने वाली शातिर निकली ये बहू

SI News Today

लखनऊ. राजधानी में 2 जुलाई को महिला का सिर मुंडाकर घर से निकालने का मामला झूठा निकला। जांच में पुलिस को पता चला कि महिला ने खुद नाई की दुकान पर जाकर सिर मुंडवाया था और ससुरालवालों पर झूठा आरोप लगा दिया।

– मामला लखनऊ के पारा थाने का है। यहां के डूडा कॉलोनी के रहने वाले कासिम का शबनम से 2 साल पहले निकाह हुआ था।

– महिला का आरोप है, ”निकाह के कुछ दिन बाद ही कासिम और उसका परिवार शारीरिक व मानसिक यातनाएं देने लगे। कभी टीवी-फ्रिज तो कभी रुपए की डिमांड करने लगे। इसके लिए कई बार ससुर ने हाथ उठाया। सास गलियां देकर बात करती थी। मांग न पूरी होने पर पति ने तलाक देने की धमकी भी दी।”

– ”2 जुलाई की आधी रात सास ने मेरे हाथ बांध दिए। फिर ससुर और पति ने मेरा सिर मुड़वा दिया। इसके बाद कपड़े फाड़कर 9 महीने के बच्चे के साथ घर से निकाल दिया। मैं घंटों बाहर चिल्लाती रही, लेकिन दरवाजा नहीं खुला। इसके बाद 100 नंबर पर सूचना देकर पुलिस को बुलाया। पुलिस ने मुझे घर के अंदर करने की कोशिश की लेकिन मैंने साफ मना कर दिया। मैंने कहा- अब जहर खा लूंगी लेकिन कभी ससुराल नहीं जाऊंगी।” दोषियों को पुलिस थाने ले गई।

पति ने कहा- झगड़ा हुआ लेकिन नहीं मुंडवाया सिर
– शबनम के पति कासिम का कहना है, ”मैंने बेगम का सिर नहीं मूंडा। उसके सिर में जुंए की शिकायत थी, इसलिए एक सप्ताह पहले उसने अपनी इच्छा से नाई की दुकान पर जाकर सिर मुंडवाया था।”

– अगर किसी भी महिला का सिर जबरदस्ती मूंडा जाएगा तो उसके सिर पर चोट या काटने के निशान जरूर होंगे। लेकिन उसके सिर पर ऐसा कोई निशान नहीं है। उससे मेरा झगड़ा होता था लेकिन कभी भी मारपीट नहीं हुई। उसने इतना बड़ा झूठ क्यों बोला, यह मुझे भी समझ में नहीं आ रहा है।

– कासिम ने कहा, गुड्डू नाम के नाई ने शबनम का सिर मूंडा था, आप वहां जाकर पता भी कर सकते हैं।
– सहादतगंज पुलिस ने एसएसपी दीपक कुमार के कहने पर जांच की तो मामला सही निकला। गुड्डू ने भी बताया कि उसने महिला का सिर मूंडा था।

– एसएसपी दीपक कुमार ने कहा, मामले में सच्चाई कुछ और है, जबरदस्ती सिर नहीं मुंडवाया गया है।

NGO ने करवाया FIR
– शबनम ने राजधानी स्थित बेगमात रॉयल फैमिली ऑफ अवध के महिला प्रकोष्ठ से मदद मांगी। इसके बाद एनजीओ की अध्यक्ष फरहाना मालिकी ने पारा थाने में एफआईआर दर्ज कराई।

– वहीं, इस पूरी मामले को महिला आयोग के सामने रखने और इंसाफ दिलाने का आश्वासन भी दिया गया है।

क्या कहना है पुलिस का ?
– पारा इइंस्पेक्टर परशुराम त्रिपाठी का कहना है, ”इस मामले पर दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई थी। लेकिन जब छानबीन की तो मामला उल्टा निकला। वहां हमें एक नाई मिला, उसने बताया कि वो महिला उसकी दुकान पर सिर मुंडाने आई थी। महिला ने नाई से बताया था कि उसके सिर में बहुत जुएं पड़ गए हैं।”

SI News Today

Leave a Reply