Saturday, April 20, 2024
featuredटेक्नोलॉजी

गूगल अकाउंट हैक होने पर हो सकते हैं ये नुकसान

SI News Today

साइबर क्राइम के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, ऐसे में ऑनलाइन प्राइवेसी और सिक्योरिटी बनाए रखना बेहद जरूरी है। ऑनलाइन सिक्योरिटी का पहला कदम होता है अपने ईमेल अकाउंट को सुरक्षित रखना। आपका ईमेल अकाउंट ही है जिससे अधिकतर जानकारी जुटाई जा सकती है। यह आपके सोशल मीडिया अकाउंट से लेकर इंटरनेट बैंकिंग और अन्य कई जगहों पर ईमेल आईडी रजिस्टर्ड होती है। Gmail दुनिया की सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली ईमेल सर्विस प्रोवाइडर में से एक है। जीमेल हैक करना होना कैसे कर सकता है आपकै नुकसान, जानिए:

Find My Device: पहले इस सर्विस को एंड्रॉइड डिवाइस मैनेजर के नाम से जाना जाता था। गूगल की इस सर्विस के जरिए किसी भी एंड्रॉइड स्मार्टफोन का पता लगाया जा सकता है। इसका इस्तेमाल ऐसे समय पर किया जा सकता है जब आपका फोन या एंड्रॉइड डिवाइस गुम हो गया हो। इसके इस्तेमाल से फोन की वास्तविक लोकेशन का पता लग जाता है। या फिर उस जगह का जहां आखिरी बार फोन इंटरनेट से कनेक्ट हुआ था। अगर आपका गूगल अकाउंट हैक होता है तो जाहिर है आपकी भी लोकेशन पता लगाई जा सकती है।

Google Dashboard: गूगल डैशबोर्ड में गूगल की सर्विस से जुड़ा डेटा स्टोर होता है। इसमें आपकी लोकेशन हिस्ट्री से लेकर, सर्च हिस्ट्री और अन्य जानकारियां होती है। इतना ही नहीं इसके जरिए आपने कब आखिरी बार व्हाट्सऐप, टिंडर या किसी अन्य ऐप को इस्तेमाल किया था वह भी पता लग सकता है।

Google Wallet: अगर आपने अपने गूगल अकाउंट या गूगल वॉलेट सर्विस से डेबिट या क्रेडिट कार्ड जोड़ा हुआ है तो गूगल अकाउंट हैक होने पर आर्थिक नुकसान भी हो सकता है।

कैसे रखें अकाउंट को सिक्योर:

1. अगर कभी भी लगता है कि अकाउंट हैक हो गया है तो तुरंत अपना पासवर्ड रिसेट कर दे। कभी भी आसान से पासवर्ड जैसे- मोबाइल नंबर, जन्मतिथि आदि का इस्तेमाल ना करें। बेहतर होगा कि alphanumeric पासवर्ड सेट करें।

2. अपने स्मार्टफोन, लेपटॉप और टेबलेट में समय-समय पर वायरस स्कैन करते रहें। वायरस की वजह से भी अकाउंट हैक हो सकता है। यहां जानिए कैसे रखें फोन को वायरस फ्री–

3. अकाउंट के recovery ऑप्शन को लगातार अपडेट रखें। इसमें बताए गए मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी ऐसी हों जिनका आप अभी भी इस्तेमाल करते हों।

4. 2-स्टेप ऑथेंटिकेशन का इस्तेमाल करें। इससे गूगल अकाउंट की सिक्योरिटी दोगुनी हो जाती है। इसके लिए http://www.google.com/landing/2step/ पर जाएं।

5. अपना वेब ब्राउजर भी अप-टू-डेट रखें। इसके अलावा डिवाइस में किसी थर्ड पार्टी एंटी वायरस का भी इस्तेमाल करें।

6. गूगल अकाउंट और अन्य जगहों पर एक जैसे पासवर्ड का इस्तेमाल ना करें।

7. सबसे आखिरी बात, किसी से भी अपने अकाउंट से संबंधित जानकारी साझा ना करें।

SI News Today

Leave a Reply