Sunday, April 14, 2024
featuredदुनियादेश

चीनी विदेश मंत्रालय: मोदी और शी जिनिपिंग के बीच मुलाकात के लिए ‘‘माहौल सही नहीं’’

SI News Today

चीन ने आज कहा कि जर्मनी के हैम्बर्ग में जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राष्ट्रपति शी जिनिपिंग की द्विपक्षीय वार्ता के लिए ‘‘माहौल सही नहीं है।’’ गौरतलब है कि दोनों देशों की सेना के बीच सिक्किम सेक्टर में गतिरोध चल रहा है। हैम्बर्ग में कल से शुरू हो रहे जी20 शिखर सम्मेलन से पहले चीनी विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘राष्ट्रपति शी और प्रधानमंत्री मोदी के बीच द्विपक्षीय वार्ता के लिए माहौल सही नहीं है।’ पीएलए की निर्माण शाखा द्वारा सड़क बनाने का प्रयास किये जाने के बाद चीन और भारत के बीच पिछले 19 दिनों से भूटान-चीन-भारत सीमा पर डोकलाम क्षेत्र में गतिरोध चल रहा है। इस क्षेत्र का भारतीय नाम डोक ला है जबिक भूटान इसे डोकलाम और चीन इसको डोंगलांग कहता है। खबरें थीं कि गतिरोध को खत्म करने के लिए दोनों देशों के शीर्ष नेतृत्व के बीच हैम्बर्ग में बैठक हो सकती है।

बता दें भारत और चीन के बीच सिक्किम-भूटान-चीन सीमा पर स्थित डोकलाम पठार को लेकर विवाद चल रहा है। चीन वहां तक सड़क बनाना चाहता है, जबकि भारत उसका विरोध कर रहा है। पिछले दिनों भारत ने चीनी सैनिकों के सड़क निर्माण का विरोध किया था, तब चीनी सैनिकों ने भारत के दो बंकर तबाह कर दिए थे। उस वक्त भारतीय जवानों ने मानव दीवार बनकर चीनी मंसूबों पर पानी फेर दिया। वहीं इस मुद्दे को लेकर लगातार नई खबरें सामने आ रही हैं।

चीन भारत पर निशाना साधने का कोई मौका अपने हाथ से जाने नहीं दे रहा है। मुद्दे को लेकर चीन के सरकारी समाचार पत्र ने एक लेख में कहा कि सिक्किम क्षेत्र में एक सड़क बनाने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका की यात्रा से पहले भारत के आपत्ति जताने का मकसद वाशिंगटन को यह दर्शाना था कि वह चीन के उदय को ‘‘रोकने’’ के लिए ‘‘कृत संकल्प’’ है। ग्लोबल टाइम्स ने अपने लेख में यह बात कही है। वहीं सड़क निर्माण का विरोध करने पर चीन ने हर साल चुनिंदा भारतीय पत्रकारों के लिए तिब्बत यात्रा का आयोजन भी रद्द कर दिया  है।

SI News Today

Leave a Reply