Saturday, May 18, 2024
featuredदुनिया

रूस के सेंट पीटर्सबर्ग के दो मेट्रो स्टेशनों पर धमाके, 10 की मौत

SI News Today

रूस के सेंट पीटर्सबर्ग के दो मेट्रो स्टेशनों पर धमाका होने की खबर है. रायटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक इन विस्फोटों में कम से कम 10 लोग मारे गए हैं जबकि बड़ी संख्या में लोग घायल हुए हैं. रूस की मीडिया ने इन धमाकों में 10 लोगों के मारे जाने की पुष्टि कर दी है.

धमाके के बाद सेंट पीटर्सबर्ग के कई मेट्रो स्टेशनों को बंद कर दिया गया है. यह विस्फोट किस तरह का है अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है. सेंट पीटर्सबर्ग मेट्रो ने एक बयान में कहा कि उसने दो स्टेशनों- टेक्नोलॉजिकल इंस्टीट्यूट स्टेशन और सेनाया प्लोचाड स्टेशन को बंद कर दिया है तथा सभी यात्रियों को बाहर निकाला जा रहा है। उसने कहा, ‘यात्रियों का बाहर निकाला जाना जारी है। कई लोग घायल भी हैं। ट्रेन के भीतर एक अज्ञात वस्तु में विस्फोट हुआ।’ विस्फोट के बाद मॉस्को मेट्रो ने ऐलान किया कि वह सुरक्षा के अतिरिक्त कदम उठा रही है।

घटना के समय रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन सेंट पीटर्सबर्ग में मौजूद थे. उन्होंने कहा कि आतंकवाद सहित सभी कोणों से विस्फोटों की जांच की जा रही है. पुतिन ने पीड़ित परिवारों के लिए संवेदना जताई है. रूस की नेशनल एंटी-टेररिस्ट कमेटी ने कहा कि विस्फोटों में ‘कई’ लोगों की मौत हुई है और लोग घायल हुए हैं.

अभियोजकों ने एक बयान में कहा कि टेक्नोलॉजिकल इंस्टीट्यूट मेट्रो स्टेशन के प्लेटफार्म पर विस्फोट हुआ. विस्फोट के बाद सेंट पीटर्सबर्ग के अभियोजक कार्यालय ने जांच शुरू कर दी.

सेंटर पीटर्सबर्ग के प्रशासन ने कहा कि ‘करीब 10 लोगों’ की मौत हुई है. टेक्नोलॉजिकल इंस्टीट्यूट स्टेशन सेंट पीटर्सबर्ग की भूमिगत ट्रेन नेटवर्क का एक बहुत व्यस्त स्टेशन है. सेंट पीटर्सबर्ग मेट्रो ने एक बयान में कहा कि उसने दो स्टेशनों- टेक्नोलॉजिकल इंस्टीट्यूट स्टेशन और सेनाया प्लोचाड स्टेशन को बंद कर दिया है तथा सभी यात्रियों को बाहर निकाला जा रहा है.

उसने कहा, ‘यात्रियों को बाहर निकाला गया. कई लोग घायल भी हैं. ट्रेन के भीतर एक अज्ञात वस्तु में विस्फोट हुआ.’ विस्फोट के बाद मॉस्को मेट्रो ने ऐलान किया कि वह सुरक्षा के अतिरिक्त कदम उठा रही है.

चरमपंथियों ने अतीत में भी परिवहन को बनाया है निशाना

साल 2013 में रूस के वोलगोग्राद शहर में रेलेवे स्टेशन और एक ट्रॉली बस को निशाना बनाकर दो आत्मघाती विस्फोट हुए थे जिनमें 34 लोग मारे गए थे और सोचि विंटर ओलंपिक की सुरक्षा को लेकर खतरा पैदा हो गया था। इसी तरह, जनवरी, 2011 में मॉस्को के दोमोदेदोवो हवाई अड्डे पर आत्मघाती हमला किया गया था जिसमें 37 लोग मारे गए थे।

SI News Today

Leave a Reply