Sunday, February 5, 2023
18+कामसूत्रस्पाइसी बाइट्स

झिल्ली एवं कौमार्य के बारे में आम पूछे गए सवाल

SI News Today
पूरी दुनिया में लोगों के हाइमन एवं कौमार्य को लेकर विभिन्न विचार एवं राय होते हैं। ये सब देश, संस्कृति एवं धर्म पर निर्भर करते हैं और इसलिए एक दूसरे से अलग होते हैं।

कभी कभी यह तय कर पाना कठिन हो जाता है की कोई क्या सोचे या समझे? कहानियाँ नानी-दादी, मौसी- चाची, चचेरे भाई बहनों से होती हुई हम तक पहुँचती हैं – कुछ सत्य और कुछ असत्य।

क्या यह पता लगाया जा सकता है की लड़की कुंवारी है या नहीं?
नहीं, ज्यादातर चिकित्सक या डाक्टर भी यह नहीं बता सकते हैं। यदि लड़की की झिल्ली मोटी हो या उनके योनिद्वार (वजाइनल ओपनिंग) को ढकती हो, ऐसी स्थिति में शायद चिकित्सक लड़की के कौमार्य के बारे में बता सकते हैं।

क्या खेलकूद के समय या टैम्पान का उपयोग करने से झिल्ली टूट सकती है?
खेलकूद के समय या टैम्पान का उपयोग करने से झिल्ली खिंच या टूट सकती है, पर यह झिल्ली के आकार, माप एवं मोटाई पर निर्भर करता है।

क्या पहली बार सेक्स करते समय हमेशा दर्द होता है?
नहीं। यदि लड़की व महिला तनाव मुक्त हों और यौन रुप से उत्तेजित हों तो संभवतः दर्द नहीं होता है। यदि वे तनाव में हैं तो योनि (वेजाइना) सूखी हो सकती है या कस सकती है। इससे झिल्ली के फ़टने एवं सेक्स के समय दर्द होने की संभावनाएँ बढ़ सकती हैं।

पहली बार में लोग अक्सर अधिक उत्याह या घबराहट महसूस करते हैं अतः ऐसा आसानी से हो सकता है पर यदि दोनों संबंध बनाने में या सेक्स आरंभ करने में अपना समय लें तो संभवतः दर्द नहीं होगा।

कौमार्य क्या है?
सभी लोग इस बात से सहमत हैं की लड़का हो या लड़की, यदि उन्होंने कभी सेक्स नहीं किया है तो वे कुंवारे कहलाते हैं। हालांकि बहुत लोगों का मानना है की लड़कियों का कौमार्य झिल्ली के मौज़ूद होने या कायम होने पर निर्भर करता है।

पर झिल्ली किसी भी प्रकार का सेक्स किये बिना ही कई और तरीकों से भी खिंच या टूट सकती है। यह सत्य नहीं है की किसी लड़की की झिल्ली से यह पता लगाया जा सके की उन्होंने सेक्स किया है या नहीं।

अपना कौमार्य कैसे खोया जा सकता है?
अपना कौमार्य खोने के लिए किसी किस्म का सेक्स करना चाहिए, कौन से किस्म का, इस पर कुछ संदेह है! इस बारे में लोगों के अलग अलग मत हैं। क्या यह केवल योनि मैथुन (इंटरकोर्स), यानी योनि में लिंग प्रवेशित सेक्स से ही हो सकता है? या गुदा मैथुन (एनल इंटरकोर्स) भी इसमें सम्मिलित किया जा सकता है? और मुख मैथुन (ओरल सेक्स) के बारे में क्या विचार हैं?

इस बारे में अलग अलग लोगों के विभिन्न मत हैं और यह काफ़ी कुछ उनके धर्म एवं संस्कृति पर भी निर्भर करता है। पर सभी लोग यह मानते हैं की हस्तमैथुन (मास्टरबेशन) करने से कौमार्य ख़त्म नहीं होता है। और यह अपने शरीर को जानने और यह महसूस करने का अच्छा तरीका है की स्वयं को क्या पसंद है।

क्या पहली बार सेक्स करते समय सभी लड़कियों को रक्तस्राव होता है?
नहीं। शोध यह दर्शाते हैं की अनेक लड़कियों को पहली बार सेक्स के समय रक्तस्राव नहीं होता है। हो सकता है टैम्पॉन का उपयोग करने से या घुड़सवारी जैसे खेलकूद करने से झिल्ली खिंच या टूट गई हो। हो सकता है झिल्ली बहुत लचीली या पतली हो या यह भी हो सकता है की कुछ लड़कियों में यह जन्म से ही न हो।रक्तस्राव से कौमार्य का पता नहीं लगाया जा सकता है।
झिल्ली के खिंचने या फटने के लिए सेक्स करना भी आवश्यक नहीं है। यह टैम्पान के उपयोग से, घुड़सवारी, साइकिल चलाने या व्यायाम करने से भी फट सकती है।यदि लड़की सेक्स करते समय जल्दी में ना हों, या अपना समय लें, तनाव मुक्त रहें और उनकी योनि गीली हो और उनके साथी आराम से लिंग का प्रवेश करें तो रक्तस्राव की बहुत कम संभावनाएँ होती हैं।दूसरी ओर, यदि लड़की की झिल्ली मोटी हो और लचीली न हो तो दूसरी या तीसरी बार सेक्स करते समय भी रक्तस्राव हो सकता है।कुछ परिवारों में शादी की पहली रात के बाद खून के निशान युक्त चादर दिखाने का रिवाज़ होता है। यह इस बात का सबूत माना जाता है की लड़की कुंवारी हैं। उन्हें लगता है की यदी लड़की ऐसी चादर न दिखा पाए तो इसका अर्थ है की वह पहले सेक्स कर चुकी हैं। किन्तु यह सत्य नहीं है।कुछ लड़कियाँ विशेषकर अपनी शादी की रात को रक्तस्राव चाहती हैं। हो सकता है, की किसी परिवार में यह खून के निशान युक्त चादर दिखाने की प्रथा है। हो सकता है वे अपने पति को यह विश्वास दिलाना चाहें की वे कुंवारी हैं जबकी वास्तव में वे कुंवारी न हों। या हो सकता है वे अब भी कुंवारी हों पर इस बात से चिंतित हों की अगर उन्हें रक्तस्राव न हुआ तो उनके पति उनके कौमार्य पर शक करेंगें।इन सभी कारणों के लिए कुछ लड़कियाँ या महिलाएं शादी की रात पर रक्तस्राव को निश्चित करने के तरीके ढूढती हैं। ऐसा करने की बहुत सी तरकीबें हैं, उंगली को काट कर चादर पर खून की कुछ बूंदें टपकाने से लेकर कृत्रिम झिल्ली बनवाने तक। कुछ लड़कियाँ अपनी झिल्ली को पुनस्र्थापित करने के लिए शल्य क्रिया भी करवाने का प्रयास करतीं हैं।

यदि कोई लड़की इनमें से किसी तरकीब का उपयोग करती हैं तो उन्हें याद रखना चाहिए की यह मिथ्य की पहली बार सेक्स करते समय रक्तस्राव होता है, को जिन्दा रखने में भागीदार हैं!

यहाँ ’पुनस्र्थापन‘ शब्द का उपयोग करना गलत होगा क्योंकि झिल्ली को पुनस्र्थापित करने के लिए ऐसा कुछ है ही नहीं, परन्तु एक कृत्रिम झिल्ली बनायी जा सकती है। झिल्ली के पुनस्र्थपन के लिए दो प्रकार की शल्य क्रिया होती है –

योनि की परत का उपयोग करके एक झिल्ली बनाई जाती है जो योनिद्वार को ढक देती है। सेक्स के समय यह फट जाती है और रक्तस्राव होता है। नई झिल्ली बनाने के लिए बाहरी होंठ को सिल दिया जाता है। इसे इनफिब्यूलेषन कहते हैं और बहुत से देशों में ऐसा करना कानूनन अपराध है क्योंकि यह मासिक रक्तस्राव को रोकता है।

दोनों ही प्रकार की शल्यक्रिया में योनि को कसा जाता है जिससे जब लिंग का योनि में प्रवेश हो तो रक्तस्राव हो। यह भी तब होगा, यदि सब योजना के अनुसार हो, क्योंकि शल्यक्रिया के बाद यह निष्चित ही होगा, इसकी कोई गारन्टी नहीं है।

मैं अपने कौमार्य को कैसे साबित कर सकती हूँ?
असल में यह साबित नहीं किया जा सकता। शायद ही कोई चिकित्सक या डाक्टर यह निश्चित रुप से बता पाएंगें की लड़की की योनि में लिंग का प्रवेश हुआ है या नहीं।

पर कभी कभी, यदि किसी न किसी कारण से लड़की के होने वाले ससुराल वालों को उनके कौमार्य पर शक है तो लड़की को अनेक परेशानियों से बचाने के लिए चिकित्सक या डाक्टर ‘कौमार्य प्रमाणपत्र’ देने में संकोच नहीं करते हैं।

SI News Today

Leave a Reply